27.1 C
New Delhi
April 20, 2024
राज्य

चैत्र नवरात्रि 2021: पूजन सामग्री खरीदने के बाजार में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

मेरठ: चैत्र नवरात्रि 2021 की शुरुआत 13 अप्रैल से हो रही है। नवरात्र पूजन के लिए सामग्री खरीदने के लिए श्रद्धालु बाजार में जुट रहे हैं। इससे व्यापारियों के भी चेहरे खिले हुए हैं। नवरात्रों के लिए श्रद्धालुओं ने बाजार से पूजन सामग्री खरीदनी शुरू कर दी है।

मिट्टी के कलश, दीपक, मा के श्रृंगार के लिए हार, मुकुट, सिंदूर, लाल चुनरी, नारियल, चंदन, सुपारी, लौंग, कपूर, हवन सामग्री, अगरबत्ती, धूपबत्ती आदि खरीद रहे हैं। मोदीपुरम निवासी पुष्पेंद्र कुमार का कहना है कि वह पूरे नौ दिन नवरात्रों में व्रत रखते हैं। इसलिए पूजन के लिए सामग्री खरीदी है।

चैत्र नवरात्रि 2021
चैत्र नवरात्रि 2021

  • चार बार आते हैं नवरात्र: ज्योतिषाचार्य पंडित राहुल अग्रवाल का कहना है कि साल में चार बार नवरात्र आते हैं। चैत्र नवरात्र, शारदीय नवरात्र और दो बार गुप्त नवरात्र। नवरात्र में देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है।
  • बाजार में बिक रहे गोबर के उपले: बाजार में इस बार गोबर के उपले भी बिक रहे हैं। पल्लवपुरम निवासी अनिता का कहना है कि कोरोना को देखते हुए इस बार पूरे नवरात्र घर में हवन होगा। इसके लिए गोबर के उपले, लकड़ी, घी, कपूर, लौंग, तिल, गुगल, लोबान, इलायची, कपूर आदि खरीदा है। हवन करने से वातावरण शुद्ध होगा और विषाणु मरेंगे। उनके आसपास के परिवार भी हवन की तैयारी कर रहे हैं।
  • ग्राहक देखकर व्यापारियों के चेहरे खिले: पिछले वर्ष चैत्र नवरात्र पर कोरोना महामारी के कारण लाॅकडाउन लग गया था। इस कारण व्यापारी निराश हुए थे। इस बार बाजार खुले होने से व्यापारी खुश है। कंकरखेड़ा स्थित कान्हा पौशाक केंद्र के संचालक विजय मान का कहना है कि इस बार श्रद्धालु बाजार में खरीददारी करने आ रहे हैं। इससे व्यापारियों को भी लाभ हो रहा है।

यह भी पढ़ें: मथुरा में श्री बांके बिहारी से भक्तों ने खेली रंग-गुलाल की होली

Related posts

ग्रामीण अर्थव्यवस्था का रथ खींच रहीं डेढ़ लाख उद्यमी महिलाएं

Buland Dustak

वल्लभनगर में 71.45% हुआ मतदान, पिछले चुनाव से 4% कम निकले मतदाता

Buland Dustak

भूमिहीन किसानों के लिए 520 करोड़ रुपये की कर्ज राहत योजना की शुरुआत

Buland Dustak

लखनऊ सहित प्रदेश के हर जिले में स्थाई डीएल बनाने का कोटा घटा

Buland Dustak

वृंदावन कुंभ : शाही स्नान, संतों ने निकाली शाही पेशवाई

Buland Dustak

चालक की सूझबूझ से दुर्घटनाग्रस्त होने से बची शताब्दी एक्सप्रेस

Buland Dustak