34.1 C
New Delhi
July 20, 2024
बिजनेस

देश में 15 फरवरी तक 220.91 लाख टन चीनी का हुआ उत्पादन: इस्मा

नई दिल्ली, 17 फरवरी (हि.स.)। देश में चीनी विपणन वर्ष 2021-22 में 15 फरवरी, 2022 तक चीनी का उत्पादन 6 फीसदी बढ़कर 220.91 लाख टन पर पहुंच गया है। इससे पिछले साल समान अवधि में चीनी का उत्पादन 209.11 लाख टन रहा था। वहीं, जनवरी तक चीनी का निर्यात तीन गुना बढ़ा है। भारतीय चीनी मिल संघ (इस्मा) ने गुरुवार को यह जानकारी दी।

220.91 लाख टन चीनी

भारतीय चीनी मिल संघ ने जारी एक बयान में कहा कि चीनी विपणन वर्ष 2021-22 में 15 फरवरी तक 220.91 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ है। इस्मा ने कहा कि चीनी का निर्यात भी जनवरी तक तीन गुना होकर 31.5 लाख टन पर पहुंच गया, जबकि अभी तक करीब 50 लाख टन चीनी निर्यात के अनुबंध हुए हैं। इसमें से 31.50 लाख टन चीनी का निर्यात 31 जनवरी, 2022 तक हो चुका है। एक साल पहले समान अवधि में चीनी निर्यात 9.20 लाख टन रहा था। हालांकि, करीब 8 लाख टन चीनी का निर्यात इस महीने होना है।

इस्मा ने कहा कि चालू चीनी विपणन वर्ष में 516 चीनी मिलों ने पेराई का कार्य शुरू किया था, जिसमें 13 चीनी मिलों ने अब तक पेराई का कार्य बंद कर दिया है। पिछले साल इसी अवधि में 496 चीनी मिलों ने पेराई का कार्य शुरू किया, जिनमें से 32 ने इसी तारीख तक पेराई बंद कर दी थी। चीनी मिल संघ के मुताबिक इस अवधि के दौरान महाराष्ट्र में चीनी का उत्पादन बढ़कर 86.15 लाख टन हो गया, जो एक साल पहले समान अवधि में 75.46 लाख टन था।

हालांकि, देश के सबसे बड़े चीनी उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश में चीनी का उत्पादन 65.13 लाख टन से घटकर 59.32 लाख टन रह गया। लेकिन, कर्नाटक में चीनी का उत्पादन बढ़कर 44.85 लाख टन हो गया, जो एक साल पहले समान अवधि में 39.07 लाख टन था। उल्लेखनीय है कि चीनी विपणन वर्ष अक्टूबर से सितंबर तक होता है।

Read More:- आरबीआई : नहीं बढ़ेंगी ब्याज दरें, जीडीपी ग्रोथ 7.8 फीसदी रहने का अनुमान

Related posts

भारत-चीन तनाव: चीनी कंपनी एंट बेच सकती है पेटीएम हिस्सेदारी

Buland Dustak

भारत में गूगल करेगा 75,200 करोड़ रुपये का निवेश

Buland Dustak

देश में जल्द खुलेंगे प्राइवेट सेक्टर के 8 नए बैंक

Buland Dustak

Landline Broadband कस्टमर्स को मिल सकती है सब्सिडी

Buland Dustak

यूपीआई ट्रांजेक्शन पर देना होगा अतिरिक्त चार्ज, नए साल से नियम लागू

Buland Dustak

Banking Regulation Act 2020 को मिली संसद की मंजूरी

Buland Dustak