27.1 C
New Delhi
April 20, 2024
राज्य

मथुरा में श्री बांके बिहारी से भक्तों ने खेली रंग-गुलाल की होली

- पांच दिन लगातार टेसू के रंगों से बिहारीजी खेलते रहेंगे होली 

मथुरा: ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर में बुधवार सुबह से ही भक्तों का भारी सैलाब उमड़ पड़ा, ठाकुरजी ने रंग-गुलाल के साथ भक्तों के संग होली खेली। बुधवार शाम को बांकेबिहारी भक्तों संग टेसू के रंगों की होली खेलकर पांच दिवसीय रंगोत्सव की शुरुआत करेंगे। रंगभरनी एकादशी दो दिवसीय होने के कारण श्री बांके बिहारी मंदिर में रंगों की होली बुधवार से ही शुरू हो गई है।

मथुरा होली

बांके बिहारी मंदिर के प्रबंधक मुनीष शर्मा ने बताया कि इस बार रंगभरनी एकादशी 24 और 25 मार्च को है। इस दिन से वृंदावन के मंदिरों में रंग-गुलाल की होली शुरू हो जाती है। बुधवार को श्रीबांकेबिहारी मंदिर में रंगों की होली शुरू हो गई। सुबह शृंगार आरती और राजभोग की सेवा के बाद ठाकुरजी भक्तों के साथ रंगों की होली खेली। यह दौर लगातार पांच दिन तक चलेगा।

हालांकि पहले दिन सुबह के समय मथुरा में गुलाल की होली हुई और शाम को फूलों की होली होगी। अपने आराध्य ठाकुर श्री बांकेबिहारी के लिए सेवायतों ने टेसू के फूलों से रंग तैयार किया है। इसमें केसर और फिटकरी का उपयोग किया गया है। टेसू के फूल और केसर अलग-अलग स्थानों से मंगाए गए हैं। मंदिर में विधिवत रूप से सायंकालीन सेवा में फूलों के साथ होली की शुरुआत होगी।

वृंदावन में वाहनों की नो एन्ट्री लागू 

पुलिस ने वृंदावन शहर में वाहनों की नो एंट्री स्कीम लागू कर दी है। यमुना एक्सप्रेस-वे से आने वाले वाहनों को राधारानी तिराहा पर पार्किंग में खड़ा करवाया जा रहा है। यहां से श्रद्धालु आटो व ई-रिक्शा के जरिए गंतव्य तक आ रहे हैं। इसी तरह मथुरा मार्ग पर पागल बाबा के समीप दारुक पार्किंग, सौ शैय्या पार्किंग, पर्यटन सुविधा केंद्र पर वाहनों को खड़ा करवाया जा रहा है।

छटीकरा मार्ग से वैष्णवदेवी मंदिर पार्किंग, मल्टीस्टोरी पार्किंग, अन्नपूर्णा पार्किंग में वाहन खड़े करवाए जा रहे हैं। मांट क्षेत्र से आने वाले वाहनों को पोंटून पुल से पहले बनी पार्किगों में खड़ा करवाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: मंदिरों में बजे घंटियां, मस्जिद के अजान पर दूसरों का भी हो ध्यान

Related posts

वन और वन्यजीव संरक्षण में उपयोगी सिद्ध होगा तालछापर ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट : वन मंत्री

Buland Dustak

पश्चिमी राजस्थान में 1275 करोड़ रुपये से बनेंगे चार रिजरवायर

Buland Dustak

Jharcraft : पारंपरिक हस्तशिल्प के निखार और बाजार का बना जरिया

Buland Dustak

झारखंड में कोयला उत्पादन की कमी से गहरा सकता है बिजली संकट

Buland Dustak

दो दिवसीय अनुगूंज-2021 समारोह आज से, स्कूल शिक्षा मंत्री करेंगे शुभारम्भ

Buland Dustak

उप्र : एक साल बाद खुले प्राइमरी स्‍कूल, पुष्प वर्षा-तिलक लगाकर हुआ स्‍वागत

Buland Dustak