43.1 C
New Delhi
May 25, 2024
देश

भगवान श्री महाकाल के आंगन में फुलझड़ी जलाकर मनाई गई दीपावली

- बाबा महाकाल का हुआ अभ्यंग स्नान, विशेष श्रृंगार कर लगाया गया अन्नकूट

उज्जैन: मध्यप्रदेश में शनिवार को सुबह विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में फुलझड़ी जलाकर दीपावली मनाई गई। तडक़े करीब चार बजे भस्मारती हुई और उसके बाद सुबह 6 बजे राजाधिराज बाबा श्री महाकाल को शहद, घी, दूध, दही, उबटन, हल्दी, चंदन, केसर, विभिन्न प्रकार के फूलों और फलों के रसों के साथ इत्र आदि सुगंधित द्रव्य पदार्थों से अभ्यंग स्नान कराया गया। इसके बाद भगवान का सोने-चांदे के आभूषणों से विशेष श्रृंगार कर अन्नकूट लगाया गया। तत्पश्चात पुजारियों ने भगवान महाकाल की सुबह की आरती की और फुलझड़ी जलाकर मंदिर में दीपावली मनाई गई।

भगवान श्री महाकाल

मध्यप्रदेश में परम्परा के अनुसार हर हिंदू त्योहार की शुरुआत सबसे पहले बाबा श्री महाकाल के प्रांगण से ही होती है। दीपावली की शुरुआत भी बाबा के सामने फुलझड़ी जला कर की गई। सुबह होते ही भस्म आरती के बाद पुरोहितों ने श्री महाकाल, गणेश, पार्वती की पूजा की। नंदी हॉल में पुजारी, पुरोहितों ने मंत्रोच्चार के साथ राजाधिराज महाकाल, गणेश, कुबेर, लक्ष्मी/पार्वती का पूजन किया।

कोरोना की गाइडलाइन का पालन करते हुए दर्शन पर प्रतिबंध

हर वर्ष इस अवसर पर कलेक्टर, प्रशासक, सहायक प्रशासनिक अधिकारी और आम लोगों की मौजूदगी में पूजा की जाती थी, लेकिन कोरोना की गाइडलाइन का पालन करते हुए पूजन के समय इस वर्ष आम जनों के दर्शन पर प्रतिबंध था। सरकारी अधिकारियों को भी निमंत्रण नहीं दिया गया। इस अवसर पर हजारों श्रद्धालु भगवान के दर्शन करने के लिए मंदरि पहुंचते हैं, लेकिन बार यह पर्व सीमित लोगों की मौजूदगी में मनाया जा रहा है। 

दीपावली के अवसर पर शनिवार सुबह 4 बजे होने वाली भस्म आरती के बाद बाबा को अभ्यंग स्नान कराया गया। इसके बाद नवीन वस्त्र धारण कराकर भगवान का दिव्य श्रृंगार कर 56 पकवानों का महाभोग (अन्नकूट) लगाया गया। इसके बाद फुलझड़ी से आरती हुई। पुजारियों ने प्रतीकात्मक फुलझड़ी जलाकर बाबा श्री महाकाल के साथ दीपावली मनाई।

यह भी पढ़ें: मथुरा में श्री बांके बिहारी से भक्तों ने खेली रंग-गुलाल की होली

Related posts

कोरोना वैक्‍सीन आपूर्ति के लिए टाटा ने पेश की रेफ्रिजरेटड ट्रक की रेंज

Buland Dustak

काव्य के विविध रंगों से सजा होगा जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 2022

Buland Dustak

अमेरिका-चीन की तर्ज पर भारत में भी बने इनडोर वायु प्रदूषण पर नीतिः IIT शोध

Buland Dustak

टीकाकरण शुरू करने के लिए 2 जनवरी को सभी राज्यों में होगा ड्राई रन

Buland Dustak

भारत ने लद्दाख में तैनात किए मार्कोस कमांडो

Buland Dustak

नौसेना कर्मियों को अब रिटायर होने के बाद नौकरी के लिए भटकना नहीं पड़ेगा

Buland Dustak