34 C
New Delhi
April 20, 2024
देश

अमरनाथ धाम यात्रा जाने वाले श्रद्धालुओं का 15 से ऑनलाइन पंजीकरण

जम्मू: श्री अमरनाथ धाम जी यात्रा 2021 के लिए तीर्थयात्रियों का ऑनलाइन पंजीकरण 15 अप्रैल को बालटाल और चंदनवारी मार्गों के लिए शुरू होगा। इस वर्ष की 56 दिवसीय यात्रा 28 जून से दोनों मार्गों पर एक साथ शुरू होगी और रक्षाबंधन 22 अगस्त को समाप्त होगी। यह जानकारी श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी नीतीश्वर कुमार द्वारा दी गई।

इस अवसर पर सीईओ द्वारा स्वास्थ्य प्रमाण पत्रों के से सम्बंधित राज्य सरकार, संघ राज्य क्षेत्र प्रशासनों द्वारा अधिकृत डॉक्टरों, चिकित्सा संस्थानों द्वारा ऑनलाइन पंजीकरण हेतु स्वीकृत होंगे। 15 मार्च के बाद मान्य स्वास्थ्य प्रमाणपत्र ही जारी किए जाऐंगे। यात्रा के लिए पंजीकरण करने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण हेतु जिन नियमों का पालन करने की आवश्यकता है, उन्हें बोर्ड की वेबसाइट पर डाल दिया गया है। पंजीकरण इस वेबसाइट- Amarnath Yatra Registration द्वारा 15 अप्रैल से शुरू होंगे।

अमरनाथ यात्रा
13 वर्ष या 75 वर्ष से अधिक आयु वालों का नहीं होगा पंजीकरण

सीईओ द्वारा दी गई जानकारी में अमरनाथ यात्री अपने आवेदनों को विधिवत संसाधित करने के बाद यात्रा के लिए यात्रा परमिट डाउनलोड कर सकेंगे। यात्रा के दौरान यात्रियों को अपनी मूल फोटो पहचान पत्र और सीएचसी अपने साथ रखना होगा। नीतीश्वर कुमार ने कहा कि यात्रा से सम्बंधित पर्ची प्राप्त यात्रियों को निर्दिष्ट तिथि तथा यात्रा हेतु अनुमति दी जाएगी।

दोमेल और चंदनवारी में उन्होंने सभी इच्छुक यात्रियों से अग्रिम में ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा का लाभ उठाने और समय पर यात्रा परमिट प्राप्त करने की अपील की है ताकि जब वे अपनी यात्रा शुरू करें तो उन्हें किसी असुविधा का सामना न करना पड़े।

बैठक में सीईओ ने कहा कि 13 वर्ष या 75 वर्ष से अधिक तथा छह सप्ताह से अधिक गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण नहीं किया जाएगा। हेलीकॉप्टर से यात्रा करने का प्रस्ताव रखने वाले यात्रियों को पंजीकरण की आवश्यकता नहीं होगी, क्योंकि उनके हेलीकॉप्टर टिकट नियमानुसार पर्याप्त होंगे। हालांकि, हेलीकॉप्टर से यात्रा करने की अनुमति देने से पहले उन्हें अधिकृत चिकित्सक द्वारा निर्धारित अनिवार्य स्वास्थ्य प्रमाणपत्र प्राप्त करना होगा।

Read More: विश्व के सबसे ऊंचे रेलवे ब्रिज का जम्मू-कश्मीर में आर्क निर्माण कार्य हुआ पूरा

Related posts

काशी विश्वनाथ की मंगला आरती देखना हुआ महंगा, चुकाना होगा अधिक शुल्क

Buland Dustak

एचएएल ने शुरू किया जेट ट्रेनर का स्पिन परीक्षण

Buland Dustak

प्रधानमंत्री मोदी मत्स्य सम्पदा योजना (PMMSY) और ई-गोपाला ऐप की शुरुआत

Buland Dustak

पहले स्वदेशी नौसेना Anti Drone System के लिए BEL से हुआ करार

Buland Dustak

SBI ने गर्भवती महिलाओं की भर्ती से सम्बंधित circular को ठंडे बस्ते में डाला

Buland Dustak

विधानसभा में द असम कैटल प्रिजर्वेशन बिल-2021 ध्वनि मत से पारित

Buland Dustak