36.8 C
New Delhi
May 26, 2024
देश

भारतीय सेना दिवस पर याद किये गए जांबाज जवान…

-रक्षा मंत्री ने सेना के अदम्य साहस, पराक्रम और बलिदान को सलाम किया 

भारतीय सेना दिवस: लोकतांत्रिक भारत के पहले भारतीय थल सेना सेना प्रमुख की याद में आज भारतीय सेना अपना 73वां ‘आर्मी डे’ मना रही है। 15 जनवरी, 1949 के दिन ही जनरल केएम करियप्पा को भारतीय थल सेना का कमांडर इन चीफ बनाया गया था। आजादी के बाद सेना के पहले दो चीफ ब्रिटिश थे। देशभर में सशस्त्र बल सेना मुख्यालयों पर विभिन्न आयोजन करके शहीदों को याद कर रहे हैं।

रक्षा मंत्री ने अपने बधाई संदेश में सेना के अदम्य साहस, पराक्रम और बलिदान को सलाम किया है। सैन्य बलों के प्रमुख (सीडीएस) और थल सेना प्रमुख ने भी भारतीय सेना के सभी रैंकों, नागरिकों, दिग्गजों और उनके परिवारों को अपनी शुभकामनाएं दी हैं। मुख्य कार्यक्रम राजधानी दिल्ली में कैंट स्थित करियप्पा ग्राउंड में सेना दिवस परेड का आयोजन किया गया है।  

भारतीय सेना दिवस

​राजनाथ सिंह और जनरल बिपिन रावत ने भारतीय सेना के जवानों को दी बधाई

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सेना दिवस के अवसर पर भारतीय सेना के जवानों और उनके परिवारों को बधाई। राष्ट्र भारतीय ​​सेना के अदम्य साहस, पराक्रम और बलिदान को सलाम करता है। भारत को राष्ट्र के प्रति उनकी निःस्वार्थ सेवा पर गर्व है। सेना ​दिवस के मौके पर चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ने अपना संदेश देते हुए कहा कि ‘हम उन वीर जवानों को श्रद्धांजलि देते हैं और उनका आभार व्यक्त करते हैं, जिनकी कर्तव्य के प्रति वीरता और सर्वोच्च बलिदान हमें नए सिरे से दृढ़ता के साथ खुद को समर्पित करने के लिए प्रेरित करता है।’​​​

पाकिस्तान से सीमापार आतंकवाद का जिक्र करते हुए सेना प्रमुख ने कहा कि सेना भारत के हितों की रक्षा के लिए आतंकवाद के स्रोत पर ही हमला करने में संकोच नहीं करेगी। जनरल नरवणे ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने, मजबूत अनुशासन और दक्ष पेशेवर कार्यशैली पर आधारित सेना का सैन्य चरित्र उभरते भारत की आकांक्षाओं को पूरा करने में बल को शक्ति प्रदान करता रहेगा। ​​ 

थलसेना प्रमुख जनरल एम एम ​​नरवणे ने सेना दिवस

थलसेना प्रमुख जनरल एम एम ​​नरवणे ने सेना दिवस की पूर्व संध्या पर आकाशवाणी पर प्रसारित संदेश में कहा कि सेना बातचीत के जरिये विवादों के समाधान के लिए प्रतिबद्ध है। भारतीय सेना सीमाओं पर यथास्थिति में ‘एकपक्षीय बदलाव के किसी भी प्रयास के खिलाफ दृढ़ता से खड़ी रहेगी और अमन-चैन की उसकी इच्छा को कमजोरी के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि सेना शत्रुओं की साजिश का त्वरित और निर्णायक जवाब देने में सक्षम रही है और उसी समय उसने पूर्वी लद्दाख में सैन्य गतिरोध को और बढ़ने से भी रोका है।

​भारतीय सेना प्रमुख एमएम नरवणे ने अपने बधाई सन्देश में कहा कि ​मैं भारतीय सेना के सभी रैंकों, नागरिकों, हमारे दिग्गजों और उनके परिवारों को अपनी हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं। आज हम अपने बहादुर दिलों की वीरता को सलाम करते हैं, जिनकी सर्वोच्चता, बलिदान ‘कर्तव्य की पंक्ति’ में हमेशा हमें प्रेरित करेगा। मैं यह भी भरोसा दिलाता हूं कि हमारी ‘वीर नारियों’और उनके परिवारों को सेना की ओर से सहायता और समर्थन मिलता रहेगा।​ उन्होंने कहा कि यह चुनौतियों और अवसरों से भरा वर्ष रहा है।

इसके बावजूद भारतीय सेना देश की सुरक्षा और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा करने में दृढ़ रही है और शेष विवादों को सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध है​। भारतीय सेना ने वास्तविक नियंत्रण रेखा पर यथास्थिति को बदलने के लिए किसी भी प्रयास का मुकाबला करने के लिए अपनी प्रतिक्रिया में तेजी दिखाई है। 

यह भी पढ़ें: सेना दिवस: पूरी दुनिया मानती है भारतीय सेना का लोहा…

Related posts

भारतीय वायुसेना का ​मिग 21 बाइसन दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत

Buland Dustak

​वाइस एडमिरल अजेंद्र बहादुर सिंह ने पूर्वी नौसेना की कमान संभाली

Buland Dustak

मेयर सुशीला कंवर ने किया 362.33 करोड़ का बजट पेश

Buland Dustak

अरावली अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का हुआ आगाज़

Buland Dustak

प्रकाश श्रीवास्तव ने ली कोलकाता हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश पद की शपथ

Buland Dustak

शारदीय नवरात्र विंध्य कॉरिडोर का मॉडल बनाने का बेहतरीन मौका

Buland Dustak