43.1 C
New Delhi
May 25, 2024
देश

अरबसागर में दुर्घटनाग्रस्त Mig 29 विमान के पायलट ​​कमांडर निशांत सिंह को विदाई दी

-अरब सागर में दुर्घटनाग्रस्त हुआ था नौसेना का Mig 29 के लड़ाकू विमान

अरब सागर में दुर्घटनाग्रस्त हुए नौसेना के Mig 29 विमान के पायलट ​​कमांडर निशांत सिंह का ​पार्थिव शरीर ​शुक्रवार को ​​गोवा ​स्थित आईएनएस हंस नेवल बेस पर ​लाया गया और उन्हें पूर्ण सैन्य सम्मान के साथ​​ अंतिम विदाई दी गई।​ वह यहीं पर ​303 आईएनएस स्क्वाड्रन में तैनात थे।​

नौसेना ​अध्यक्ष ​एडमिरल करमबीर सिंह और भारतीय नौसेना के सभी ​कर्मियों ने कमांडर निशांत सिंह के परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त ​की।​ उनके साथियों ने उन्हें ​एक लड़ाकू पायलट​, योग्य उड़ान प्रशिक्षक और योग्य पर्वतारोही ​बताते हुए श्रद्धांजलि ​दी​।

Mig 29

गोवा तट से 30 मील दूर मिला था पायलट ​​कमांडर निशांत सिंह का ​शव

नौसेना का ट्रेनर Mig 29 के लड़ाकू विमान 26 नवम्बर की शाम 5 बजे उस वक्त अरब सागर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था जब वह विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य से परिचालन करते समय ऊंची समुद्री लहरों के बीच नीचे जा रहा था। इस विमान को एक ट्रेनर एयरक्राफ्ट की तरह इस्तेमाल किया जा रहा था।

एक पायलट को सुरक्षित बचा लिया गया था जबकि दूसरे पायलट कमांडर निशांत सिंह का दुर्घटना के बाद भी पता नहीं चल सका। उसे ढूंढने के लिए ​​सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया।​ पायलट और जहाज का मलबा तलाशने के लिए 9 युद्धपोतों और 14 विमानों को लगाया गया। इसके अलावा मरीन और कोस्टल पुलिस भी तलाश कर रही थी।

​​सर्च ऑपरेशन​ के दौरान कमांडर निशांत​ सिंह का शव 11 दिन बाद 07 दिसम्बर को गोवा तट से 30 मील दूर समुद्र में पानी के 70 मीटर नीचे मिला था। ​भारतीय नौसेना ने इस दुर्घटना की जांच के आदेश 26 नवम्बर को ही दिये थे।​​

कमांडर निशांत सिंह​ का पार्थिव शरीर आज ​गोवा ​स्थित आईएनएस हंस नेवल बेस पर ​लाया गया और उन्हें पूर्ण सैन्य सम्मान के साथ​​ अंतिम विदाई दी गई​​।​ ​उनके साथियों ने दिवंगत आत्मा की अगली दुनिया की शांतिपूर्ण यात्रा ​के लिए प्रार्थना करते हुए श्रद्धांजलि दी​।​ इस मौके पर उनके परिजन भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- बीएसएफ: भारत-पाक युद्ध के विजयी योद्धाओं का सम्मान करेगा

Related posts

सेना भर्ती घोटाला: 6 लेफ्टिनेंट कर्नल समेत 17 अफसरों पर FIR

Buland Dustak

परमाणु सहयोग पर ​भारत-अमेरिका के बढ़े कदम

Buland Dustak

देश में सबसे पहले जयपुर में ‘Khadi Prakritik Paint’ इकाई का उद्घाटन

Buland Dustak

कारगिल विजय दिवस: शौर्य की स्याही से लिखी युद्ध की विजय गाथा

Buland Dustak

पत्रकार मारिया रेसा और दिमित्री मुराटोव को इस वर्ष का नोबेल शांति पुरस्कार

Buland Dustak

इफको ने उपलब्ध कराया विश्व का सबसे पहला तरल नैनो यूरिया

Buland Dustak