देश

Jhunjhunu Rape case: पॉक्सो कोर्ट ने 26 दिन में सुना दी फांसी की सजा

- कोर्ट ने कहा- इस तरह का कृत्य कोई पशु भी बच्चे के साथ नही करता

Jhunjhunu Pocso Court ने बुधवार को पांच साल की बच्ची से दुष्कर्म करने के मामले में आरोपित को घटना के 26 दिन के भीतर फांसी की सजा सुनाई है। साथ ही कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा है कि इस तरह का कृत्य तो कोई पशु भी बच्चे के साथ नहीं करता है। कोर्ट ने इन वारदातों के पीछे नशा और पोर्नोग्राफी को कारण मानते हुए सरकार को इस दिशा में कदम उठाने के लिए लिखने का फैसला लिया है।

पॉक्सो कोर्ट के न्यायाधीश जैन ने सजा सुनाते हुए कहा कि सुनवाई के दौरान तुम्हारे अंदर एक बार भी पश्चाताप नहीं देखा। अगर तुम पश्चाताप करते तो हो सकता था तुम्हारी सजा दूसरी होती।विशिष्ट लोक अभियोजक ने बताया कि इस मामले में आरोपित को मंगलवार को न्यायालय ने दोष सिद्ध करने के बाद व्यक्तिगत सुनने के लिए भी बुलाया था। इस दौरान भी आरोपित के मन और चेहरे पर पश्चाताप का कोई भाव नहीं था। इसलिए न्यायालय ने मामले में कोई नरमी नहीं बरती। पत्रावली पर आए साक्ष्य और गवाहों को मद्देनजर रखते हुए फांसी की सजा दी गई।

Jhunjhunu Rape Case

आरोपित ने स्वीकारा नशा और पोर्नोग्राफी थे कारण

पोक्सो कोर्ट Jhunjhunu के विशिष्ट लोक अभियोजक लोकेंद्र सिंह शेखावत ने बताया कि कोर्ट ने आरोपित से यह भी कहा है कि वह अपने जीवन को सुधारना चाहता या फिर अपराध के प्रति पश्चाताप के लिए तैयार है। कहीं सुधरने की मन में हो तो वह अच्छा व्यवहार रखे। साथ ही जेल प्रबंधन को कहा है कि अपराधी को धार्मिक और मोटिवेशनल किताबें उपलब्ध करवाएं जो इसे समाज में स्थापित करने में सहायक साबित हों।

आरोपित ने व्यक्तिगत सुनवाई में न्यायालय से कहा कि अपराध का कारण नशा था लेकिन आरोपित की इस दलील को कोर्ट ने इसलिए नहीं माना क्योंकि उसने घटना के बाद करीब 40 किलोमीटर स्कूटी चलाई है और बच्ची को चॉकलेट व चिप्स भी दिलवाई है। ऐसे में वह सेंस में था। कोर्ट में आरोपित ने यह भी स्वीकारा कि वह नशे के अलावा पोर्न वीडियो देखता था जिसे गंभीर मानते हुए कोर्ट ने नशे को युवाओं से दूर रखने तथा पोर्न वीडियोज पर कंट्रोल करने के लिए सरकार को  लिखने का फैसला भी लिया है।

मासूम के साथ दुष्कर्म की घटना 19 फरवरी को राजस्थान में Jhunjhunu जिले के पिलानी थाने के तहत श्योराणों की ढाणी की है जहां शाम को पांच साल की मासूम खेत में अपने भाई-बहनों के साथ खेल रही थी। इसी दौरान स्कूटी पर आरोपित सुनील कुमार (20) आया और मासूम का अपहरण कर ले गया था। अपहरण के तुरंत बाद ही मासूम के भाई-बहनों ने आरोपित का पीछा भी किया था लेकिन वे उसे नहीं पकड़ पाए।

पुलिस ने 10 दिन में ही पेश कर दिया चालान

इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। जिला पुलिस अधीक्षक मनीष त्रिपाठी के निर्देशन पर पुलिस ने तुरंत नाकाबंदी की। रात करीब 8 बजे मासूम गाड़ाखेड़ा गांव में लहूलुहान स्थिति में मिली थी। इसके बाद गाड़ाखेड़ा चौकी प्रभारी शेरसिंह तुरंत मौके पर पहुंचे और मासूम को अस्पताल पहुंचाया। हालत गंभीर होने पर उसे जयपुर रेफर किया गया था।

इस दुष्कर्म घटना के पांच घंटे बाद ही पुलिस ने शाहपुर निवासी आरोपित सुनील को गिरफ्तार कर लिया था। जांच अधिकारी चिड़ावा पुलिस उपाधीक्षक सुरेश शर्मा ने आरोपित के खिलाफ 9वें दिन ही चालान पेश कर दिया था। कोर्ट ने फैसला भी सिर्फ 26 दिन में सुना दिया। इस मामले में 40 से अधिक गवाह जुटाए और साथ ही करीब 250 दस्तावेज बतौर सबूत रखे।

पुलिस ने इस मामले में रोजाना 12 से 13 घंटे काम किया और 10 दिन में ही चालान पेश कर दिया था। पॉक्सो एक्ट लागू होने के बाद मासूम से रेप को फांसी का Jhunjhunu जिले का यह दूसरा दुष्कर्म मामला है। इससे पूर्व तीन साल पहले ऐसे ही एक मामले में आरोपित विनोद कुमार को फांसी की सजा सुनाई गई थी।

कोर्ट के फैसले के बाद बच्ची के पिता ने कहा कि आज हमारी बेटी को न्याय मिला है। घटना के बाद से ही वह डरी, सहमी रहती है। उनकी बेटी को जिंदगी भर का दर्द मिला है जिसकी पीड़ा कोई कम नहीं कर सकता है।

यह भी पढ़ें- बच्चों को मानसिक समस्या से उबारने के लिए होगी काउंसलिंग

Related posts

एयरो इंडिया​ 2021 ​में भारत दिखायेगा स्वदेशी ताकत

Buland Dustak

वायुसेना दिवस परेड में राफेल शानदार प्रदर्शन के साथ दिखाएगा दम

Buland Dustak

तीनों भारतीय सेना ने ​शुरू की ​’टू फ्रंट वार’ की तैयारी

Buland Dustak

प्रधानमंत्री आवास योजना से गरीबों में जगा खुद के घर का विश्वास

Buland Dustak

प्रवासी भारतीयों और विदेशियों के लिए बच्चा गोद लेने की प्रक्रिया होगी आसान

Buland Dustak

विश्व स्तरीय भव्यता के साथ मनेगा श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, रहेगी कार्यक्रमों की धूम

Buland Dustak