43.1 C
New Delhi
May 25, 2024
एजुकेशन/करियर

डिजिटल भाषा प्रयोगशाला का केंद्रीय विद्यालय में किया गया उद्घाटन

नई दिल्ली,07 जनवरी

देश की प्रथम महिला सविता कोविंद ने गुरुवार को राष्ट्रपति भवन परिसर में स्थित डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय विद्यालय में डिजिटल भाषा प्रयोगशाला का उद्घाटन किया। प्रथम महिला ने उद्घाटन के बाद विद्यार्थियों से डिजिटल भाषा प्रयोगशाला के विषय में बातचीत की और उन्हें शुभकामनाएं दीं।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने इस मौके पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि यह विद्यालय देश के प्रतिष्ठित परिसर में स्थित है। शिक्षा मंत्रालय,  राष्ट्रपति भवन और केंद्रीय विद्यालय संगठन सभी को मिलकर इस विद्यालय को देश का सर्वाधिक प्रतिष्ठित विद्यालय बनाने के लिए हर संभव प्रयास करना चाहिए।

पोखरियाल ने कार्यक्रम के बाद एक ट्वीट कर कहा कि मुझे आज कृत्रिम बुद्धिमत्ता (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) की कौशल प्रयोगशाला का दौरा करने और विद्यार्थियों की बनाई अविश्वसनीय परियोजनाओं को देखने का मौका मिला। वह यह देखकर रोमांचित हैं कि स्कूल डेटाबेस की मदद से ‘द फेशियल रिकॉग्निशन सिस्टम’ से गेट प्रवेश आसान हो गया है।

केंद्रीय विद्यालय संगठन की आयुक्त निधि पांडे ने विद्यालय की उपलब्धि पर बधाई देते हुए विद्यालय को देश का प्रतिष्ठित विद्यालय बनाने के लिए प्रयास करने का आह्वान किया। इस मौके पर विद्यालय की प्राचार्या डॉ चारू शर्मा ने भी विद्यार्थियों को संबोधित किया।

डिजिटल भाषा प्रयोगशाला का केंद्रीय विद्यालय में किया गया उद्घाटन
प्रयोगशाला की खास बातें

भाषा प्रयोगशाला, भाषा सीखने की प्रक्रिया में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह न केवल संप्रेषण कौशल को बेहतर बनाती है, बल्कि भाषा उपयोगकर्ताओं के आत्मविश्वास को भी बढ़ाती है। यह कंप्यूटर आधारित अभ्यासों और गतिविधियों की सुविधा प्रदान करती है और उनको लगातार प्रयास के लिए प्रेरित करती है।

वायरलेस हेडफोन, डिजिटल मल्टीमीडिया, माइक्रोफोन जैसे इंटरैक्टिव टूल छात्रों के भाषा कौशल को बढ़ाने के लिए डिजाइन किए गए हैं।

स्वयं की गति से सीखना

शिक्षार्थियों को एक सॉफ्टवेयर उपलब्ध कराया जाता है जो उन्हें शैक्षिक कार्यों को करने, उनकी शब्दावली का परीक्षण करने और व्याकरण के नियमों को अपनी गति से सीखने की अनुमति देता है। सीखने का सबसे महत्वपूर्ण पहलू होता है कि जब एक बच्चा अन्य बच्चों के साथ बराबरी का दबाव नहीं रखता है।

छात्र अपनी गति से अभ्यास करने का विकल्प चुन सकते हैं और किसी भी समय एक शिक्षण उपकरण तक पहुंच प्राप्त कर सकते हैं। डिजिटल लैंग्वेज लैब का सॉफ्टवेयर व्याकरण समझने, स्वमूल्यांकन, त्वरित परिणाम, ऑडियो फीडबैक, रिपोर्ट जेनरेशन की सुविधा प्रदान करता है और हिंदी, अंग्रेजी एवं संस्कृत भाषाओं के लिए कई और विशेषताओं से लैस है।

Related posts

आईआईटी की हर पांच में से एक सीट पर दिखेंगी बेटियां

Buland Dustak

CBSE 12th result 2021 : 31 जुलाई तक घोषित होंगे नतीजे

Buland Dustak

IGNOU ने CGAS में लॉन्च किया सर्टिफिकेट कोर्स

Buland Dustak

सरकारी स्कूलों 1 लाख छात्रों को School of Excellence के तहत मुफ्त शिक्षा

Buland Dustak

CBSE की 10वीं-12वीं की परीक्षाएं 4 मई से, 15 जुलाई तक नतीजे

Buland Dustak

आईआईटी का अनुसंधान एवं विकास मेला नवंबर में होगा आयोजित

Buland Dustak