43.1 C
New Delhi
May 25, 2024
बिजनेस

GST के दायरे में आने पर पेट्रोल 75 रुपये तो डीजल मिलेगा 68 रुपये प्रति लीटर

नई दिल्ली:पेट्रोल-डीजल के रेट ने देश में हाहाकार मचाया हुआ है, लेकिन अगर ऐसा कुछ हो जाए कि पेट्रोल 75 रुपये और डीजल 68 रुपये प्रति लीटर पर मिलने लगे तो लोगों को बहुत बड़ी राहत मिल सकती है।

जी हां, देशभर में पेट्रोल का दाम घटकर 75 रुपये और डीजल 68 रुपये प्रति लीटर पर आ सकता है। इसके लिए इन्हें गुड्स और सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) के दायरे में लाना होगा, लेकिन इसके लिए जरूरी राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी है। एसबीआई के अर्थशास्त्रियों ने गुरुवार को यह बात कही।

इससे केंद्र और राज्यों के लिए राजस्व का घाटा सकल घरेलू उत्पाद का केवल 1 लाख करोड़ रुपये या 0.4 प्रतिशत होगा। अर्थशास्त्रियों ने इस कैलकुलेशन के लिए कच्चे तेल की वैश्विक कीमत 60 डॉलर प्रति बैरल से कम और डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत 73 के स्तर पर माना है।

पेट्रोल-डीजल के रेट

टैक्स की वजह से बढ़ रहे हैं पेट्रोल-डीजल के रेट

मौजूदा कर व्यवस्था में हर राज्य अपने हिसाब से पेट्रोल और डीजल पर टैक्स लागू करता है और केंद्र अपनी ड्यूटी और सेस अलग से वसूल करता है। पिछले कुछ दिनों से देश के कई शहरों में पेट्रोल की कीमत 100 रुपये प्रति लीटर या इसके पार चल रही है जिसका जिम्मेदार लोग टैक्स को मान रहे हैं।

अर्थशास्त्रियों ने कहा कि पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के ढांचे में न लाना जीएसटी फ्रेमवर्क का एक अधूरा एजेंडा है। केंद्र और राज्य तेल उत्पादों को जीएसटी के तहत लाने का विरोध कर रहे हैं, क्योंकि पेट्रोलियम उत्पादों पर बिक्री कर/ वैट उनके लिए कर राजस्व का बड़ा स्रोत है।

उल्लेखनीय है कि फिलहाल राज्य अपनी जरूरतों के हिसाब से वैट, सेस, अतिरिक्त वैट या सरचार्ज लगाते हैं। कच्चे तेल की कीमतों, ट्रांसपोर्टेशन चार्ज, डीलर कमीशन, फ्लैट एक्साइज ड्यूटी को ध्यान में रखते हुए इसे लगाया जाता है। डीजल के लिए डीलर कमीशन 2.53 रुपये और पेट्रोल के लिए 3.67 रुपये है। पेट्रोल पर सेस 30 रुपये और डीजल पर सेस 20 रुपये है, जो कि केंद्र और राज्य सरकारों में बराबर बंटता है।

यह भी पढ़ें: इंडियन ऑयल ने लॉन्च किया भारत का पहला 100 ऑक्टेन पेट्रोल

Related posts

बिग बास्केट की 60 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी खरीदेगा टाटा समूह

Buland Dustak

करदाताओं को सरकार जल्द देगी Charter of Rights का तोहफा

Buland Dustak

Gold Reserve के मामले में भारत नौवें पायदान पर: डब्लूजीसी

Buland Dustak

ईज ऑफ डूइंग बिजनेस 2020 रैंकिंग में ये हैं देश के टॉप 10 राज्‍य

Buland Dustak

वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट 20.1 फीसदी

Buland Dustak

शेयर मार्केट फिर धड़ाम, 531 अंक लुढ़का सेंसेक्स

Buland Dustak