34.1 C
New Delhi
July 21, 2024
बिजनेस

अडानी और अंबानी के लिए स्वर्णकाल साबित हुआ कोरोना काल, संपत्ति हुई दोगुनी

- 2020 में मुकेश अंबानी की दौलत 25 फीसद बढ़ी
- अडानी की संपत्ति हुई दोगुनी
- 40 भारतीय उद्योगपति बने अरबपति

कोरोना महामारी के साल 2020 में जहां लाखों करोड़ों लोगों के रोजगार और कारोबार चौपट हो गए, वहीं अडानी और अंबानी परिवार के लिए यह साल स्वर्णकाल साबित हुआ है। हुरुन ग्लोबल रिच लिस्ट के 10वें संस्करण के अनुसार कोरोना काल में भारत में 40 अरबपति बढ़े हैं। इसके साथ अब अरबपतियों की संख्या बढ़कर 177 पर पहुंच गई है। रिपोर्ट के अनुसार 2020 में मुकेश अंबानी की संपत्ति 24 प्रतिशत बढ़ी है, जबकि अडानी की संपत्ति लगभग दोगुनी हो गई है।

अडानी और अंबानी

दुनिया में अंबानी को मिला 8वां स्थान

दुनिया के धनकुबेरों की इस सालाना लिस्ट में भारत के दिग्गज उद्योगपति मुकेश अंबानी को 8वां स्थान मिला है। रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल के दौरान अंबानी की संपत्ति 24% बढ़ी है, जिसके बाद उनकी कुल संपत्ति 6.1 लाख करोड़ रुपये (83 बिलियन डॉलर) आंकी गई है। वहीं, गौतम अडानी की दौलत बीते कई सालों से लगातार बढ़ रही है।

साल 2020 में उनकी दौलत 32 अरब डॉलर (2.34 लाख करोड़ रुपये) तक पहुंच चुकी है। वह दुनिया में 48वें और देश के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति बन गए हैं। आईटी कंपनी एचसीएल के शिव नादर 1.98 लाख करोड़ (27 बिलियन डॉलर) के साथ तीसरे सबसे धनी भारतीय हैं। आर्सेलर मित्तल समूह के लक्ष्मी एन मित्तल वैश्विक स्तर पर 104वें सबसे अमीर शख्स हैं, लेकिन वे भारत के चौथे सबसे अमीर उद्योगपति हैं। इसके बाद सीरम इंस्टीट्यूट के साइरस पूनावाला का नंबर आता है। 18.5 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ वह भारत के पांचवें सबसे रईस शख्स हैं।

अगर बात करें दुनिया के धनकुबेरों की तो टेस्ला के संस्थापक एलन मस्क $197 अरब (14.55 लाख करोड़ रुपये) की नेटवर्थ के साथ दुनिया के सबसे धनी शख्स हैं। उनके बाद अमेजन के जेफ बेजोस ($189 अरब यानी 13.86 लाख करोड़ रुपये) और फिर फ्रेंच लग्जरी कारोबारी बर्नार्ड अरनॉल्ट ($114 अरब यानी 8.36 लाख करोड़ रुपये) का नाम आता है।

उल्लेखनीय है कि 177 भारतीय अरबपतियों में से 60 मुंबई से , 40 दिल्ली में और 22 अरबपति बेंगलुरु में हैं।

यह भी पढ़ें- भारत मॉरीशस के बीच व्यापक आर्थिक सहयोग व साझेदारी को कैबिनेट की मंजूरी

Related posts

आसान नहीं चीन का बहिष्कार, डूब रही कंपनियां

Buland Dustak

RBI की मौद्रिक नीति से झूमा घरेलू बाजार, सेंसेक्स 45 हजार के पार

Buland Dustak

देश में जल्द खुलेंगे प्राइवेट सेक्टर के 8 नए बैंक

Buland Dustak

CAIT: कोरोना से 40 दिनों में 7 लाख करोड़ रुपये के घरेलू कारोबार का नुकसान

Buland Dustak

GST क्षतिपूर्ति के लिए राज्यों को कर्ज के रूप में 40 हजार करोड़ रुपये जारी

Buland Dustak

रिलायंस और फ्यूचर रिटेल की डील को सेबी की हरी झंडी

Buland Dustak