बिजनेस

इथेनॉल के स्वतंत्र ईंधन के रूप में इस्तेमाल को मिली मंजूरी

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने आज इथेनॉल के स्टैंड अलोन फ्यूल (स्वतंत्र ईंधन) के रूप में इस्तेमाल को मंजूरी दे दी। ऐसा होने से अब पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों से परेशान आम लोगों को काफी राहत मिल सकती है। सरकार ने ऑयल मार्केटिंग कंपनियों को वाहनों के इस्तेमाल में आने वाले इथेनॉल (ई-100) को बेचने की इजाजत दे दी है।

हालांकि पेट्रोलियम मंत्रालय की ओर से जारी नोटिफिकेशन में ये भी साफ किया गया है कि फ्यूल के रूप में इथेनॉल का इस्तेमाल वही वाहन कर सकेंगे, जो ई-100 कम्पैटिबल होंगे। सरकार के इस फैसले के बाद Ethanol को आम आदमी अब पेट्रोल-डीजल की तरह इस्तेमाल कर सकेंगे।

इथेनॉल

भारत में अभी तक इथेनॉल का इस्तेमाल स्वतंत्र ईंधन के रूप में नहीं किया जाता है। अभी इसका इस्तेमाल पेट्रोल में मिलाकर गाड़ियों के फ्यूल के रूप में होता है। इथेनॉल को स्टैंड अलोन फ्यूल के रूप में इस्तेमाल करने के लिए सरकार ने मोटर स्पिरीट एंड हाई स्पीड डीजल ऑर्डर- 2005 के प्रावधानों में भी बदलाव किया है।

इथेनॉल के प्रयोग से प्रदूषण होगा नियंत्रण

केंद्र सरकार के इस फैसले से चीनी कंपनियों और Ethanol कंपनियों को काफी फायदा होगा। ये कंपनियां Ethanol का अधिक उत्पादन करके इसका प्रत्यक्ष लाभ उठा सकती हैं। जानकारों का कहना है कि इथेनॉल का उपयोग करने से प्रदूषण नियंत्रण में भी मदद मिलेगी। इसका इस्तेमाल करके कार्बन मोनोऑक्साइड के उत्सर्जन को 35 फीसदी तक कम किया जा सकता है।

इसके साथ ही इथेनॉल का उत्पादन होने से देश के गन्ना किसानों को काफी फायदा होगा। क्योंकि Ethanol को देश की ऑयल मार्केटिंग कंपनियों को बेचकर चीनी कंपनियों को आसानी से पैसा मिल सकेगा, जिससे वे किसानों को भी उनके गन्ने के बकाये का भुगतान कर सकेंगी। फिलहाल भारत में मुख्य रूप से चीनी कंपनियां गन्ने से इथेनॉल का उत्पादन करती हैं। लेकिन अब सरकार चावल का इस्तेमाल करके भी इथेनॉल का उत्पादन करने की योजना बना रही है।

हालांकि जानकारों का कहना है कि भारत में डिस्टिलरीज और जल संसाधनों की कमी की वजह से तात्कालिक तौर पर ऐसा करने में काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। इसलिए इथेनॉल का उत्पादन बढ़ाने के लिए सरकार को चीनी और अनाज आधारित बुनियादी ढांचे को विकसित करना पड़ेगा। तभी ईंधन के रूप में Ethanol का अधिकतम फायदा देश के लोगों को मिल सकेगा।

यह भी पढ़ें: खाद्य पदार्थों की कीमतों ने बिगाड़ा हाल, फरवरी में 4.17% पर पहुंची थोक महंगाई दर

Related posts

इंडियन ऑयल- एसबीआई को-ब्रांडेड रुपे डेबिट कार्ड जारी

Buland Dustak

भाव बढ़ने से सीसीआई कपास खरीद से लगभग बाहर

Buland Dustak

एफडीआई ने तोड़ डाले अब तक के सारे रिकॉर्ड: प्रधानमंत्री

Buland Dustak

बैंकिंग सेक्टर पर कोरोना इफेक्ट, सिर्फ 4 घंटे होगा सामान्य कामकाज

Buland Dustak

लॉन्च के बाद बढ़ी वन प्लस की मुसीबत, जमकर हो रहा बहिष्कार

Buland Dustak