राज्य

हिमाचल में भारी बर्फबारी, शिमला में बारिश ने तोड़ा 42 साल का रिकॉर्ड

शिमला: हिमाचल प्रदेश के जनजातीय क्षेत्रों में अप्रैल माह में व्यापक बर्फबारी हो रही है। लाहौल-स्पीति और किन्नौर सहित ऊंचाई वाले इलाकों में तीन दिन से बर्फबारी का क्रम जारी है जिससे सामान्य जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। बर्फबारी के कारण राज्य में दो नेशनल हाइवे और 179 सड़कें बंद हो गई हैं। लाहौल-स्पीति में सबसे ज्यादा 140 सड़कें अवरुद्ध हैं।

राज्य के मैदानी व मध्यपर्वतीय इलाकों में लम्बे समय बाद जमकर बादल बरस रहे हैं। राजधानी शिमला में बारिश ने 42 साल का रिकार्ड तोड़ दिया। बीते 24 घण्टों में शिमला में 83 मिलीमीटर बारिश हुई है। इससे पहले वर्ष 1979 में 15 अप्रैल को शिमला में 111 मिली लीटर बारिश रिकॉर्ड की गई थी। शिमला में पिछले दो दिनों से मूसलाधार बारिश हो रही है।

हिमाचल में बर्फबारी
शिमला और कुल्लू में होती रही ओलावृष्टि और बारिश

शिमला में देर रात जमकर बारिश और ओलावृष्टि होती रही और बारिश का दौर गुरुवार को भी जारी रहा। बारिश से राजधानी में सूखे का संकट खत्म हो गया है। इसके अलावा कुल्लू में भी जम कर बादल बरसे हैं। कुल्लू के कोठी में 67 मिलीलीटर बारिश रिकार्ड की गई। पिछले 24 घण्टों में मनाली में 61, जोगिन्दरनगर में 50, डलहौजी में 39, टिंडर औऱ बैजनाथ में 35, तीसा में 34, बंजार और छतराड़ी में 33 मिमी बारिश हुई।

उधर, उच्च पर्वतीय इलाकों में रुक-रुक कर बर्फबारी का दौर जारी है। भारी बर्फबारी से मनाली-लेह मार्ग पर वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई है। लाहौल-स्पीति जिले की सभी अंदरूनी सड़कों पर भी यातायात अवरूद्ध हो गया है।

केलंग मेें एक फुट, सीसू, जिस्पा और दारचा में डेढ़ फुट जबकि बारालाचा दर्रे पर दो फुट से अधिक हिमपात हुआ है। उधर किन्नौर जिले के ऊपरी इलाकों में भी हिमपात हो रहा है। किन्नौर जिले के रली नामक स्थान पर बीती रात गलेशियर आने से एनएच-5 अवरूद्व हो गया है।

Himachal Pradesh Snowfall
Read More: अमरनाथ धाम यात्रा जाने वाले श्रद्धालुओं का 15 से ऑनलाइन पंजीकरण
मैदानी व मध्यपर्वतीय इलाकों में खराब मौसम का रहेगा येलो अलर्ट

इस बीच बारिश, ओलावृष्टि और बर्फबारी से पूरे प्रदेश में मौसम का मिजाज ठंडा हो गया है और लोगों ने गर्म कपड़े निकाल लिए हैं। किन्नौर और लाहौल-स्पीति में तापमान शून्य से नीचे पहुंच गया है। लाहौल-स्पीति का मुख्यालय केलंग राज्य का सबसे ठंडा स्थल रहा, जहां न्यूनतम तापमान -0.7 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। इसी तरह किन्नौर के कल्पा में पारा -0.6 डिग्री सेल्सियस रहा।

शिमला में न्यूनतम तापमान चार डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ है। इसके अलावा मनाली में 4.4, कुफरी में 4.8, डल्हौजी में 5.8, धर्मशाला में 8.8, भुंतर में 9.4, जुब्बड़हट्टी में 9.9, पालमपुर में 10, सोलन में 11.5, मंडी में 12, सुंदरनगर में 12.3, हमीरपुर में 13.4, बिलासपुर में 14 और उना में 15.4 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ है।

मौसम विभाग शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने से प्रदेश में बारिश, बर्फबारी और ओलावृष्टि हो रही है। उन्होंने कहा कि अगले 24 घंटों में प्रदेश के मैदानी व मध्यपर्वतीय इलाकों में खराब मौसम का येलो अलर्ट रहेगा।

मैदानी भागों में 24 से 28 अप्रैल तक मौसम साफ रहेगा। मध्यपर्वतीय व उच्चपर्वतीय इलाकों में 24 से 27 अप्रैल तक मौसम साफ रहेगा, वहीं इन हिस्सों में 28 अप्रैल को मौसम के फिर बिगड़ने के आसार हैं।

Related posts

झारखंड : उद्योग और निवेश नीति पर कैबिनेट की मुहर

Buland Dustak

छिटपुट हिंसा के बीच प. बंगाल में संपन्न हुआ पांचवें चरण का मतदान

Buland Dustak

तीरथ सिंह रावत के उत्तराखंड के मुख्यमंत्री बनने पर प्रधानमंत्री ने दी बधाई

Buland Dustak

गुमनाम स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान को सामने लाएं: आरएसएस प्रमुख

Buland Dustak

झारखंड की पहचान बनेगा Dhumkuria भवन, CM ने किया शिलान्यास

Buland Dustak

मथुरा में श्री बांके बिहारी से भक्तों ने खेली रंग-गुलाल की होली

Buland Dustak