43.1 C
New Delhi
May 25, 2024
विचार

भारतीय चेतना विश्व पृथ्वी दिवस के सम्मान की वास्तविक हकदार

विश्व पृथ्वी दिवस: 22 अप्रैल 1970 को जब पृथ्वी को बचाने के लिए पहली बार 20 मिलियन अमेरीकन एकत्रित हुए होंगे तो उन्होने भी नहीं सोचा होगा की वास्तविक संकट इतना निकट है। इस एकत्रीकरण को पर्यावरणीय आंदोलनों का आरम्भ बिन्दु माना जाता है। पश्चिम के देश समुद्री सतह पर तेल फैलने से सागरीय जीवों को होने वाली समस्या के लिए आंदोलन करने को बहुत गर्व से याद करते हैं। मानव चेतना के विस्तार की इस घटना को इतिहास के मील का पत्थर माना जाता हैं, जो सही भी है।

‘सर्वत्र संभावनाएं हैं और मनुष्य इन संभावनाओं का स्वामी है’ मंत्र का जाप करने वाले समाज द्वारा पूरी पृथ्वी की चिंता करना एकदम नयी बात थी। स्वार्थ के दायरे से बाहर सोचने के लिए अमेरिका का समाज स्वयं को यूरोप के समाज से श्रेष्ठ मानता भी है। परंतु उदारता, प्रगतिशीलता और सभ्यता को परिस्थितियों के निकष पर कसना पड़ता है। कोविड19 की आपदाकारी परिस्थिति ने तो सभी समाजों के मूल चरित्र की परीक्षा ले ली।

विश्व पृथ्वी दिवस

हाल के दिनों मे संयुक्त राज्य अमेरिका ने अपनी घरेलू प्राथमिकताओं का तर्क देकर दुनिया के अन्य देशों को टीके के कच्चे माल को देने से इंकार कर दिया। एक व्यवहारिक कूटनीति के स्तर पर इसे गलत नहीं कहा जा सकता लेकिन उसी देश को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के लिए भारत के सामने हाथ फैलाते हुए देखेंगे और उसपर भारत की सकारात्मक प्रतिक्रिया को याद करेंगे तब एक जिम्मेदार वैश्विक भागीदार का महत्व समझ आएगा। भारत की विदेश नीति को अपनी आदर्शवादी कूटनीति के लिए हमेशा से आलोचना का सामना करना पड़ा है।

प्रथम प्रधानमंत्री नेहरू की गुट निरपेक्षता, राजीव गांधी की शांति सेना, अटल बिहारी बाजपेयी की लाहौर यात्रा की ही तरह मोदी सरकार के टीका-दान को भी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। विचारवैभिन्य के बावजूद अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्धों में आदर्श निर्वहन की इस निरंतरता का तर्क नेहरू जी ने ही इन शब्दों में रख दिया था, ‘हमारी नीति को “नेहरू नीति” कहना बिल्कुल गलत होगा। इसका निर्माण मैंने नहीं किया है। यह तो भारत की परिस्थितियों की उपज है। इसका जन्म भारत के अतीत की विचारधारा,समस्त भारतीय मानसिक दृष्टिकोण, स्वतन्त्रता संघर्ष के दौरान भारतीय मस्तिष्क में परिवर्तन तथा वर्तमान विश्व जनित परिस्थितियों से हुआ है’। इसी भावना से भारतीय संविधान में अनुच्छेद 51 का प्रावधान किया गया जो भारतीय राज्य को अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा कि अभिवृद्धि तथा राष्ट्रों के बीच न्यायसंगत और सम्मानपूर्ण सम्बन्धों को बनाए रखने का निर्देश देता है।

पश्चिम के पर्यावरण बोध का विकास सौंदर्य चेतना से हुआ है। ऊपर जिस आंदोलन का जिक्र किया गया है उसमे स्टोव दंपति को तेल रिसाव के कारण उदविलाव के मृत देह से बैंकूवर के तट कुरूप लगे, इस कुरूपता के विरुद्ध  आंदोलन का प्रारम्भ हुआ। वहीं भारत का पर्यावरण बोध साहचर्यचेतना से विकसित हुआ है।उत्तरी अमेरिका के इस आंदोलन के लगभग तीन साल बाद ही 1973 में भारत के तत्कालीन उत्तर प्रदेश के चमोली जनपद के चिपको नामक स्थान पर वन अपरोपण के विरुद्ध एक आंदोलन हुआ। इस आंदोलन का प्रसिद्ध नारा था-

“क्या है जंगल के उपकारमिट्टी पानी और बयारमिट्टी पानी और बयारजिंदा रहने के आधार” या “आज हिमालय जागेगाक्रूर हथौड़ा भागेगा”।

ये नारे लगाते हुए महिलाएं व अन्य गांववासी पेड़ों से चिपक जाते थे। पेड़ों से चिपकने की प्रेरणा भले 1731 के अमृता देवी विश्नोई के आंदोलन से मिली हो जिसमें पेड़ों को बचाने के लिए उनके साथ 363 साथी शहीद हो गए थे लेकिन उनकी चेतना शाश्वत रही है।आखिर जिस समय पूरी दुनिया में वातावरण को मात्र मानव के उपयोग कि वस्तु समझा जाता था उस समय ‘जंगल के उपकार’ मानने के लिए कौन से संस्कार प्रेरित कर रहे थे?

Earth Day 2021

भारतीय परंपरा ‘अखंड मण्डल’ के सिद्धान्त पर चलती है। इसका तात्पर्य है कि व्यक्ति-परिवार-समाज-देश-विश्व-ब्रह्मांड एक स्पाइरलनुमा संरचना में एक दूसरे से जुड़े हुए अंतर्संबंधितहैं। कोई भी क्रिया-कारण सम्पूर्ण संरचना को प्रभावित करती है। जब पूरी दुनिया विकास के मॉडल के रूप में पूंजीवाद और साम्यवाद को चुनने के लिए द्वंद्व में थी तब भारत के दो विचारक महात्मा गांधी और पंडित दीनदयाल उपाध्याय इसी संस्कार से प्रेरित होकर राम राज्य और धर्म राज्य कि कामना कर रहे थे जिसके अंतर्गत बाघ-बकरी के एक घाट पर पानी पीने की कल्पना थी।

भारत इस विश्व पृथ्वी दिवस पर पूरी पृथ्वी कि चिंता करने वाले जिम्मेदार भागीदार के रूप में प्रतिष्ठित हुआ है। इस देश ने त्याग और सेवा को सदैव प्रतिष्ठा दी है। पूरी वसुधा को कुटुंब बनाने के आदर्श को प्राप्त करने के लिए हमारी परंपरा ने साथ-साथ चलने (सहनाववतु…) का निर्देश दिया है। भारत की आम जनता महामारी के कुप्रबंधन के लिए सरकार से नाराज हो सकती है, चुनावों के भव्य प्रदर्शन के लिए नेताओं को धिक्कार सकती है, कुम्भ और मरकज के लिए धार्मिक नेताओं को कोस सकती है लेकिन सरकार के अंतर्राष्ट्रीय दायित्व से कभी असहमत नहीं हो सकती है।

आज हमारी पृथ्वी क्रांतिकारी ऐतिहासिक संकट से गुजर रही है। इस समय जो भी रास्ता अपनाया जाएगा वह सदियों तक अंतर्राष्ट्रीय व्यवहार को निर्धारित करेगा। यदि पृथ्वी को स्वस्थ्य  रखना है और मानव सुरक्षा को बढ़ावा देना है तो वैश्विक प्रयासों के जरिये जनसंख्या, पर्यावरण, तकनीकी नीति और जीवन शैली की वरीयताओं की पहेली को एक साथ सुलझाना होगा। एक राष्ट्र के रूप में भारत की जीवन शैली पृथ्वी की सुरक्षा की कामना करने वाले दिन का एक आदर्श है। और आदर्श को प्रोत्साहित करना चाहिए न की हतोत्साहित। आज विश्व पृथ्वी दिवस के अवसर पर भारतीय परंपरा के मोतियों को पिरोने का प्रयास करना चाहिए क्योकि इनको इतने गहरे पानी में पैठ कर चुना गया है कि संकीर्णता अपने आप तिरोहित हो जाती है।    

(लेखक: विवेक कुमार उपाध्याय, वरिष्ठ शोध अध्येता)

Read More: यूपी में पूर्ण लॉकडाउन लगाने पर कोई विचार नहीं: मुख्यमंत्री योगी

Related posts

होलिका दहन से जुड़े ‘टोटके’ भी जीवन में ला सकते हैं ‘खुशहाली’

Buland Dustak

चाबहार रेल परियोजनाः मसला हल करने की जरूरत

Buland Dustak

Suhasini Ganguly: आजादी की जंग में जेल में गुज़ारी थी अपनी पूरी जिंदगी

Buland Dustak

भारत में खत्म हो शिक्षा के नाम पर धर्म के प्रचार की छूट

Buland Dustak

सुप्रीम कोर्ट ने खत्म किया जातीय मराठा आरक्षण, मचा सियासी भूचाल

Buland Dustak

Annapurna Maharana: स्वतंत्रता सेनानी से समाज सेविका तक का सफर

Buland Dustak