39.1 C
New Delhi
May 25, 2024
देश

तेजपुर के ​एयर ऑफिसर कमांडिंग बने ​एयर ​कमोडोर डांगी

-​ राष्ट्रपति ​की ओर से 2012 में 'वायु सेना पदक' से किया जा चुका है सम्मानित
- वायुसेना में 2800 घंटे ​की त्रुटिहीन उड़ान ​का रिकॉर्ड है डांगी के नाम

​नई दिल्ली: तेजपुर- फ्रांस में राफेल प्रोजेक्ट मैनेजमेंट टीम का नेतृत्व​ करने वाले ​​​​​​एयर ​कमोडोर डीएस डांगी ​को ​​एयरफोर्स स्टेशन तेजपुर (सलूनबीरी) ​का ​​​एयर ऑफिसर कमांडिंग​ नियुक्त किया गया है।​ उन्होंने गुरुवार को​​ ​एयर कमोडोर तेजपाल सिंह से ​चार्ज लिया। ​कर्तव्य के प्रति असाधारण स​​मर्पण के लिए ​​राष्ट्रपति ​की ओर से उन्हें 2012 में ‘वायु सेना पदक​’ से सम्मानित किया​ जा चुका है​।

​एयर ​कमोडोर धर्मेंद्र सिंह ​डांगी को ​19 ​दिसम्बर,​ 92 को ​भारतीय वायु सेना ​की फ्लाइंग ब्रांच में ​​कमीशन किया गया था। उन्होंने 01 ​सितम्बर, 09 से एक ​सुखोई-30​ एमकेआई स्क्वाड्रन की कमान ​फ्लाइट कमांडर के रूप में संभा​ली है। ​वह लड़ाकू विमान मिग​​-27 ​को ​अपग्रेड ​करने ​की परियोजना के वरिष्ठ परीक्षण पायलट ​भी रहे हैं​।​ ​अपग्रेड परियोजना में उनकी गहरी भागीदारी और योगदान ​के चलते ही मिग​​-27 ​की प्रारंभिक परिचालन मंजूरी समय पर ​मिल सकी और इन विमानों को वायुसेना के बेड़े में समय से शामिल किया जा सका।​

तेजपुर
Also Read: Khusro Bagh के ऐतिहासिक दरवाजों को चाट रहा दीमक

एयर ऑफिसर डांगी​​ हैं योग्य पायलट अटैक इंस्ट्रक्टर

उनके फ़्लाइंग अनुभव और सुखोई विमानों का परीक्षण पायलट ​रहने का लाभ विमानों के ​​तकनीकी उन्नयन या रख-रखाव से संबंधित मुद्दों का विश्लेषण और समाधान करने ​में ​वायुसेना को मिला है​​​।​

​​एयर ​कमोडोर डांगी​​ योग्य पायलट अटैक इंस्ट्रक्टर, क्वालिफाइड फ्लाइंग इंस्ट्रक्टर और एक प्रायोगिक टेस्ट पायलट ​हैं जो दुर्लभ संयोजन है ​जिसे अब तक ​​केवल कुछ ही पायलटों ने हासिल किया है।​ वायुसेना में 2800 घंटे ​की त्रुटिहीन उड़ान ​का रिकॉर्ड ​उनके नाम है जिसके लिए उन्हें 1999 और 2009 में वायु सेना प्रमुख द्वारा ​सराहा जा चुका है​।​ उन्हें सितम्बर​,​ 2009 में पूर्वी वायु कमान में ​सुखोई की पहली स्क्वाड्रन का गठन करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।​​​

इसमें अत्यंत सीमित जनशक्ति और संसाधनों के साथ जमीनी स्तर से इकाई के परिचालन, रखरखाव और प्रशासनिक सेटअप को शामिल करना शामिल था​​।​ इस बमुश्किल कार्य को उन्होंने अपनी ​दूरदर्शिता​ और प्रबंधकीय कौशल ​से पूरा किया​ जिससे समय से संचालन शुरू हो सका​। 

Related posts

कोरोना वैक्सीन स्पीड ट्रैक पर, एफडीए ने दिए संकेत

Buland Dustak

भारत ने लद्दाख में तैनात किए मार्कोस कमांडो

Buland Dustak

कुतुब मीनार परिसर में बनी मस्जिद पर दावा करने वाली याचिका पर सुनवाई टली

Buland Dustak

IIT ने कोल्ड चेन मॉनिटरिंग के लिए विकसित की IoT Device ‘ऐम्बिटैग’

Buland Dustak

Serum Institute हादसे में पांच लोगों की मौत…

Buland Dustak

उग्रवादी संगठन United Liberation of Bodoland के नौ कैडर गिरफ्तार

Buland Dustak