27.1 C
New Delhi
April 20, 2024
देश

अर्जुन ​मार्क-1ए का पहला टैंक जनरल नरवणे को सौंपेंगे प्रधानमंत्री मोदी

- ​​सैनिकों के साथ ​​लोंगेवाला ​में ​​दिवाली मना​ने गए मोदी ने ​अर्जुन ​मार्क-1ए टैंक पर की थी सवारी

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को चेन्नई में एक समारोह में सेना प्रमुख जनरल एमएम​​ नरवणे को पहला ​​अर्जुन ​मार्क​-1ए मुख्य युद्धक टैंक (एमबीटी) सौंपेंगे​​।​ ​इससे ​​6,600 करोड़ रुपये के अर्जुन एमबीटी के अंतिम बैच के उत्पादन के लिए औपचारिक रूप से आदेश देने का रास्ता साफ हो जाएगा।​ ​

इस बार जैसलमेर सीमा पर जवानों के साथ दीपावली मनाने के बाद जब प्रधानमंत्री मोदी ने अर्जुन टैंक पर सवारी की थी, तभी लम्बे समय से लंबित चले आ रहे अर्जुन ​मार्क​-1ए टैंक के जल्द ही पूरा होने के संकेत मिले थे, क्योंकि उन्होंने ‘लोकल फॉर वोकल’ का साफ संदेश भी दिया था।

अर्जुन ​मार्क​-​1ए का पहला टैंक

अर्जुन​ टैंक को​ डीआरडीओ के कॉम्बैट व्हीकल रिसर्च एंड डेवलपमेंट एस्टेब्लिशमेंट​ (सीवीआरडीई​​) ने डिजाइन किया है​​।​​​ डीआरडीओ​ के चेयरमैन ​जी सतीश रेड्डी प्रधानमंत्री मोदी को पहला अर्जुन मार्क​-​1ए सौंपेंगे।​ टैंक का निर्माण ऑर्डिनेंस ​फैक्टरी बोर्ड ​(​ओएफबी​)​ के हेवी व्हीकल फैक्ट्री अवाडी द्वारा किया जाएगा​।​ सरकार से अनुबंध पर हस्ताक्षर होने के 30 महीनों के भीतर पांच एमबीटी का पहला बैच सेना को सौंप दिया जाएगा।​

​6,600 करोड़ रुपये के अर्जुन एमबीटी के​ ​ऑर्डर​ का रास्ता होगा साफ

अर्जुन​ युद्धक टैंक पूरी तरह से स्वदेश निर्मित है​ जिसे पहली बार 2004 में अर्जुन टैंक को भारतीय सेना में शामिल किया गया था। मौजूदा समय में सेना के पास 124 अर्जुन टैंक ​की दो रेजिमेंट ​हैं, जिन्हें जैसलमेर में भारत-पाकिस्तान की सीमा पर तैनात किया गया है। प्रधानमंत्री मोदी ​जब नवम्बर में ​​​​सैनिकों के साथ दिवाली मना​ने ​​​पाकिस्तान से लगी जैसलमेर (राजस्थान) के ​​लोंगेवाला सीमा पर ​​​गए थे तो उन्होंने जिस अर्जुन टैंक की सवारी की​ थी, उसी का ​यह ​उन्नत संस्करण ​​एमके-1ए​ है​।

रक्षा मंत्रालय की रक्षा अधिग्रहण समिति (डीएसी) ने 2014 में 118 अर्जुन ​मार्क​-1ए टैंकों के लिए 6,600 करोड़ रुपये के ऑर्डर को मंजूरी दे दी थी, लेकिन ऑर्डर नहीं दिया गया था।​ यह परियोजना इसलिए 2015 से अधर में थी क्योंकि सेना ने रूसी टी-90 टैंकों के ऑर्डर देने पर ध्यान केंद्रित किया था।

इसके बाद 2019 में सेना ने रूस को 464 टी-90 के लिए करीब 14 हजार करोड़ रुपये का ऑर्डर दिया भी था। 2012 में विकसित किये गए अर्जुन मार्क-2 को 2018 में अर्जुन ​मार्क​-1ए नाम दिया गया था। साथ ही सेना ने मुख्य बंदूक और मिसाइल दागने की क्षमता जैसी सभी आवश्यकताओं को पूरा करने को कहा था। अब उन्नत संस्करण अर्जुन ​मार्क​-1ए टैंक ने 2020 में सभी परीक्षण पूरे कर लिए हैं जिसके बाद अब सरकार से आदेश का इंतजार है।

गुलाम नबी आजाद : वरिष्ठ कांग्रेस नेता का अब तक का सियासी सफर

Related posts

ब्लैक फंगस संक्रामक बीमारी नहीं, कोरोना मरीजों में दिख रहे हैं लक्षण

Buland Dustak

अब 75 मिनट में हो सकेगी कोविड-19 एंटीबॉडी की पहचान

Buland Dustak

सेना भर्ती घोटाला: 6 लेफ्टिनेंट कर्नल समेत 17 अफसरों पर FIR

Buland Dustak

‘आजादी का अमृत महोत्सव’ में शामिल होंगे 25 देशों के NCC Cadets

Buland Dustak

कार्तिक शुक्ल पंचमी के दिन नहाय-खाय से प्रारंभ होता है छठ महापर्व

Buland Dustak

अब जल्द ही पर्यटक क्रूज से ही सरयू नदी की आरती का लेंगे आनंद

Buland Dustak