देश

इंदिरा सागर के 12 और ओंकारेश्वर बांध के 21 गेट खुले

- रात्रि में भी और ज्यादा पानी छोड़ जाने की संभावना

ओंकारेश्वर: मध्‍यप्रदेश के कई हिस्‍सों में हो रही मूसलाधार बारिश से हालत बिगड़ते जा रहे हैं। एक तरफ जहां भारी बारिश से जनजीवन अस्‍तव्‍यस्‍त हो रहा तो दूसरी ओर कई स्‍थानों पर बाढ़ ने कोहराम मचा रखा है। बरगी डेम से लेकर से इंदिरा सागर एवं ओमकारेश्वर बांधों के गेट खोले जाने से बाढ़ की स्थिति निर्मित हो गई है। होशंगाबाद में तो प्रशासन को सेना का सहारा लेना पड़ा है। बाढ़ के हालात को देखते हुए शनिवार को मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी हवाई सर्वे किया। 

इंदिरा सागर के 12 और ओंकारेश्वर बांध के 21 गेट खोले गए

वहीं ओमकारेश्वर बांध एवं इसके ऊपरी क्षेत्र के इंदिरा सागर बांध में लगातार जलभराव के कारण बांधों से पानी छोड़ने जाने का क्रम जारी है। इंदिरा सागर के 12 और ओंकारेश्वर बांध के 21 गेट खोले गए । इंदिरा सागर और ओंकारेश्वर बांध के गेट खोलने के बाद नर्मदा ने अपना रौद्र रूप धारण कर लिया है। लगातार बढ़ रहे जलस्तर के कारण खंडवा, खरगोन, बड़वानी और धार जिलों को रेड अलर्ट पर रखा गया है। एनएचडीसी के अलावा खंडवा जिला प्रशासन नर्मदा पट्टी स्थित गांवों में नजर बनाए हुए हैं। बांध प्रशासन के मुताबिक दोनों बांधों से करीब 10 हजार क्यूसेक प्रति सेकंड की रफ्तार से पानी छोड़ा जा रहा है। 

इंदिरा सागर

खंडवा इंदौर मार्ग के मोरटक्का में स्थित पुराने पुल पर सभी तरह के वाहनों का आवागमन रोक दिया गया है तथा नवीन पुल से होकर वाहनों को गुजरना पड़ रहा है। शुक्रवार की तुलना में आज शनिवार को नर्मदा नदी में लगभग 25 फुट पानी बढ़ गया है। इस कारण नर्मदा किनारे के दो प्रमुख घाट श्रीमद्भागवत घाट  एवं अभय घाट पूरी तरह जलमग्न हो गए हैं। स्थिति यह है कि मार्कंडेय संयास आश्रम जाने वाले मुख्य मार्ग पर पानी नर्मदा के पानी की लहरें आ रही है। नर्मदा किनारे के मुख्य घाट कोटि तीर्थ घाट चक्रतीर्थ घाट गोमुख घाट ब्रम्हपुरी क्षेत्र के नवीन घाट ऋण मुक्तेश्वर संगम स्थल घाट इस तरह सभी घाटों पर लगभग 25 फुट पानी बह रहा है।

शिवपुरी क्षेत्र का मुख्य बाजार खाली करने के निर्देश

खंडवा जिला प्रशासन ने रात्रि में ओंकारेश्वर बांध से ज्यादा पानी छोड़ने की संभावना जताई है। ओंकारेश्वर मंदिर संस्थान तथा नगर परिषद ओंकारेश्वर के  सार्वजनिक उद्घोषणा केंद्रों से लगातार इस आशय की चेतावनी दी जा रही है कि नर्मदाजी में रात्रि में भी जलस्तर बढ़ सकता है। इसलिए नर्मदा किनारे के ऊपरी क्षेत्र में  जो मकान अथवा अन्य स्थान है वे उन स्थानों को खाली करके सुरक्षित स्थान पर चले जाएं। उस पार के शिवपुरी क्षेत्र के मुख्य बाजार को खाली करवाने के निर्देश दे दिए गए हैं।

पुनासा तहसील की अनुविभागीय दंडाधिकारी ममता खेड़े क्षेत्रीय तहसीलदार उदय मंडलोई थाना प्रभारी जगदीश पाटीदार एवं ओंकारेश्वर नगर परिषद के अधिकारी बाढ़ की स्थिति का लगातार जायजा ले रहे हैं तथा नर्मदा किनारे बसे लोगों को उनके मकान खाली करने के निर्देश दे रहे हैं पिछले वर्ष सितंबर में नर्मदा नदी में आई बाढ़ का जलस्तर के बराबर आज नर्मदा जी का जलस्तर पहुंच गया है, इससे रात्रि में बढ़ने की संभावना भी जताई जा रही है।

इस संबंध में पुनासा तहसील की अनुविभागीय दंडाधिकारी श्रीमती ममता खेड़े का कहना है कि ओंकारेश्वर बांध से 30 हजार क्यूसेक मीटर पानी दिन भर में छोड़ा गया है। रात्रि में भी ज्यादा पानी छोड़ने की संभावनाओं को देखते हुए शिवपुरी क्षेत्र के मुख्य बाजार के साथ नर्मदा जी के क्षेत्र में बसे मकानों को खाली करवाने के निर्देश दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें: हरिद्वार कुंभ में पहला शाही स्नान जारी, 10 बजे तक 24 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने किया स्नान

Related posts

मालदीव अभियान : भारत विरोधी अभियान

Buland Dustak

कोरोना काल में 74 फीसदी महिलाएं आर्थिक कारणों से हुई प्रभावित

Buland Dustak

स्वतंत्रता दिवस स्पेशल: देशभक्ति के जज्बे को सलाम करती बॉलीवुड की ये फ़िल्में

Buland Dustak

भारतीय राजनीति में खालीपन छोड़ गये प्रणब मुखर्जी, याद रखेगा देश

Buland Dustak

आरआरबी एनटीपीसी परिणाम : रेल मंत्री ने की कानून हाथ में नहीं लेने की अपील

Buland Dustak

भारत ने एक करोड़ से अधिक कोविड वैक्सीनेशन करके रचा इतिहास: डॉ. हर्ष वर्धन

Buland Dustak