20.1 C
New Delhi
March 5, 2024
देश

यूजीसी ने दिल्ली और महाराष्ट्र परीक्षा निरस्त के फैसले का किया विरोध

नई दिल्ली: यूजीसी ने दिल्ली और महाराष्ट्र सरकार की ओर से फाइनल ईयर की परीक्षा निरस्त करने के फैसले का विरोध किया है। यूजीसी ने कहा है कि दोनों सरकारें विरोध वाले फैसले ले रही हैं। एक तरफ वो फाइनल ईयर की परीक्षा निरस्त करने का आदेश देती है और दूसरी तरफ नए एकेडमिक सत्र के शुरू होने की बात करती है। इस मामले पर कल यानि 14 अगस्त को सुनवाई होगी।

यूजीसी परीक्षा निरस्त विरोध
यूजीसी परीक्षा निरस्त विरोध

यूजीसी के एजुकेशन अफसर डॉ. निखिल कुमार की ओर से दायर हलफनामे में कहा गया है कि फाइनल ईयर या सेमेस्टर की परीक्षाएं निरस्त करने का आदेश देना यूजीसी के दिशा-निर्देशों के खिलाफ है और छात्रों के हित में फाइनल ईयर की परीक्षाएं होनी चाहिए। हलफनामे में कहा गया है कि यूजीसी को भी छात्रों की समस्याओं की चिंता है और फाइनल ईयर की परीक्षाएं लेने के लिए पर्याप्त दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।

परीक्षा निरस्त करने का अधिकार

सुप्रीम कोर्ट ने पिछली 10 अगस्त को यूजीसी को दिल्ली सरकार और महाराष्ट्र सरकार के उस आदेश पर जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया था। दिल्ली और महाराष्ट्र सरकार ने अपने-अपने राज्य में परीक्षा न कराने की बात कही गई है। सुनवाई के दौरान यूजीसी की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा था कि दिल्ली और महाराष्ट्र सरकार को फाइनल ईयर की परीक्षा निरस्त करने का अधिकार नहीं है। ये अधिकार केवल यूजीसी को है। उन्होंने कहा था कि अगर राज्य सरकारें अपने से फैसला करने लगेंगी तो छात्रों की डिग्रियों को यूजीसी मान्यता नहीं देगी।

महाराष्ट्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर कहा है कि राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार ने राज्य में कोई परीक्षा आयोजित नहीं करने का फैसला किया है। पिछली 31 जुलाई को इस मामले पर सुनवाई करतचे हुए महाराष्ट्र में महाराष्ट्र राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार की तरफ से लिए गए फैसले की कॉपी रिकॉर्ड पर रखने का निर्देश दिया है। इस मामले पर 10 अगस्त को सुनवाई होगी।

महाराष्ट्र सरकार ने कहा है कि यूजीसी के 6 जुलाई के दिशा-निर्देश के बाद राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार ने 13 जुलाई को बैठक की थी। उस बैठक में राज्य में कोई परीक्षा आयोजित नहीं करने का फैसला किया गया।

यह भी पढ़ें: उप्र के सभी 822 ब्लाकों में 24 मार्च को लगेगा रोजगार मेला

Related posts

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार: फिल्म ‘छिछोरे’ आगे, बाकी सब पीछे

Buland Dustak

जेडमो और जोजिला सुरंग का निर्माण, जनता को नहीं छोड़ना होगा अपना घर

Buland Dustak

​रात भर लड़ाकू विमानों से गरजा लद्दाख का आसमान

Buland Dustak

सेना भर्ती घोटाला: 6 लेफ्टिनेंट कर्नल समेत 17 अफसरों पर FIR

Buland Dustak

केन-बेतवा लिंक परियोजना बदलेगी किसानों की जिंदगी : प्रधानमंत्री मोदी

Buland Dustak

ब्लैक फंगस के इंजेक्‍शन के लिए नहीं होना होगा अब परेशान

Buland Dustak