28.1 C
New Delhi
June 5, 2023
प्रयागराज

स्वदेशी जागरण मंच की 45 दिवसीय पदयात्रा पहुंची प्रयागराज

-‘स्वदेशी अपनाओ, चाइनीज भगाओ’ पदयात्रा का समापन 11 नवम्बर को

प्रयागराज : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का आर्थिक संगठन स्वदेशी जागरण मंच ने आत्मनिर्भर एवं स्वावलम्बी भारत बनाने के लिए ‘स्वदेशी अपनाओ, चाइनीज भगाओ’ 45 दिवसीय पदयात्रा जागरूकता अभियान चलाया है। जिसके अंतर्गत 25 सितम्बर कौशाम्बी से शुरू हुई पदयात्रा अन्य जिलों में होते हुए प्रयागराज पहुंची।

इसका समापन 11 नवम्बर को प्रयाग संगीत समिति में होगा। यह यात्रा मंच के पूर्वी उप्र के संगठक एवं उप्र उत्तराखंड के विचार विभाग प्रमुख अजय कुमार के नेतृत्व में चल रहा है। यह यात्रा 41 दिनों में लगभग 700 किमी तय कर चुका है।

स्वदेशी जागरण मंच की 45 दिवसीय पदयात्रा पहुंची प्रयागराज

इस दौरान 95 हजार से अधिक स्वदेशी विदेशी सामानों की सूची पत्र वितरित किया गया है। उन्होंने बताया कि 25 सितम्बर को पं.दीन दयाल उपाध्याय की जयंती पर कौशाम्बी के बुद्ध साधना स्थली से शुरू हुई पदयात्रा का समापन प्रयाग संगीत समिति में होगा। जिसके मुख्य अतिथि अखिल भारतीय सह संगठन मंत्री स्वदेशी जागरण मंच सतीश कुमार, मुख्य वक्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ काशी सह प्रांत प्रचारक मुनीश कुमार होंगे तथा अध्यक्षता प्रो. गिरीश चंद्र त्रिपाठी करेंगे। 

भारत का व्यापार घाटा चीन से इस वर्ष तक 46 अरब डालर यानि तीन लाख करोड़ से अधिक

विचार विभाग प्रमुख ने बताया कि उक्त पदयात्रा कौशाम्बी, प्रतापगढ़, अमेठी, सुल्तानपुर, अयोध्या से फूलपुर, सोरांव, हण्डिया, हनुमानगंज, अंदावा होते हुए आज शुक्रवार को झूंसी से शंकराचार्य आश्रम एवं वहां से अल्लापुर लेबर चौराहा पहुंची। उन्होंने बताया कि यात्रा के दौरान हर एक-दो किमी पर नये कार्यवाह जुड़ते रहे और स्वदेशी का संकल्प दुहराते रहे।

Also Read: झारखंड : उद्योग और निवेश नीति पर कैबिनेट की मुहर

उन्होंने कहा कि आज चीन ने भारत के बाजार में 60 से 70 प्रतिशत तक कब्जा जमा लिया है। जिसके कारण भारत का व्यापार घाटा चीन से इस वर्ष तक 46 अरब डालर यानि तीन लाख करोड़ से अधिक है। इसलिए मंच आवाह्न करता है कि चाइना मुक्त भारत का संकल्प लें और दस करोड़ से अधिक युवा भारत को रोजगार देने का अवसर खोजें।

इस अवसर पर स्वदेशी जागरण मंच ने दीपावली पर्व पर चाइनीज झालर, गणेश लक्ष्मी, पटाखे सहित अन्य सामान का बहिष्कार करने की अपील की। साथ ही स्वदेशी कुम्हारों द्वारा बनाये गये दीप, भगवान की मूर्ति, भारतीय पटाखों एवं स्वदेशी सामानों का उपयोग करने के लिए लोगों को प्रेरित करते हुए चीन का पुतला भी फूंका। 

Related posts

महर्षि पतंजलि में नई शिक्षा नीति को लेकर चल रही कार्यशाला : सुष्मिता

Buland Dustak

National Squash Competition: गौरव, उदय और नव्या का अगले दौर में प्रवेश

Buland Dustak

बसन्त पंचमी हिन्दू धर्म का विशेष महत्व, स्नान करने को उमड़ी भीड़

Buland Dustak

प्रयागराज में रेल दावा अधिकरण की बेंच स्थापना के एक वर्ष पूरे

Buland Dustak

Khusro Bagh के ऐतिहासिक दरवाजों को चाट रहा दीमक

Buland Dustak

यूपी बोर्ड परीक्षा के ऑनलाइन आवेदन में संशोधन

Buland Dustak