43.1 C
New Delhi
May 25, 2024
विचार

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, ज्योतिर्लिंग तथा पधारो राजस्थान टूर पैकेज हुए घोषित

-स्टैच्यू ऑफ यूनिटी और ज्योतिर्लिंग 03 फरवरी को चंडीगढ़ से शुरू होगा

नई दिल्ली: रेलवे द्वारा कोविड-19 के घटते मामलों के बीच पर्यटकों के लिए शुरू किये गये घरेलू टूर पैकेज को पर्यटकों की सकारात्मक प्रतिक्रिया मिल रही है। इसी कड़ी में भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम लिमिटेड (आईआरसीटीसी) ने दो और भी टूरों ‘ज्योतिर्लिंग और स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ और ‘पधारो राजस्थान’ के लिए एक डीलक्स एसी टूरिस्ट गाड़ी चलाने का निर्णय लिया है।

इससे पर्यटक अब दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’, महाकालेश्वर, ओंकारेश्वर मंदिरों के साथ-साथ राजस्थान में थार रेगिस्तान, किले, जैन मंदिर और हवेलियों और राजपूत विरासत का भ्रमण कर सकेंगे। आईआरसीटीसी के प्रवक्ता ने गुरुवार को बताया कि ज्योतिर्लिंग और स्टैच्यू ऑफ यूनिटी चंडीगढ़ से 3 फरवरी को शुरू होगी।

दो प्रमुख ज्योतिर्लिंग, महाकालेश्वर (उज्जैन) और ओंकारेश्वर मंदिरों के साथ-साथ गुजरात में विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा “स्टैच्यू ऑफ यूनिटी” को शामिल करेगी। पर्यटकों को गाड़ी में चढ़ने के लिए दिल्ली, सफदरजग, आगरा और ग्वालियर में तीन बोर्डिंग पड़ाव उपलब्ध कराए जाएगे।

rajasthan-tourism

12 फरवरी को दिल्ली सफदरजंग से चलेगा पधारो राजस्थान

उन्होंने बताया कि दूसरा टूर पधारो राजस्थान 12 फरवरी को दिल्ली सफदरजंग से चलेगा, जो राजस्थान राज्य के प्रमुख विरासत पर्यटन स्थलों के दर्शन कराएगा। इस 04 रात और 05 दिन के टूर में राजस्थान के दो महत्वपूर्ण स्थानों अर्थात जैसलमेर और जोधपुर शामिल है और जैसलमेर में ग्रेट थार रेगिस्तान, किले, जैन मंदिर और हवेलियों और राजपूत विरासत का भ्रमण करेंगे।

इस नई डीलक्स टूरिस्ट गाड़ी में दो बढ़िया भोजनयान, एक आधुनिक रसोईघर, कोच के स्नानागार में शॉकर क्यूबिकल, सेंसर आधारित वॉशरूम फंक्शन, पैरों के मसाज के लिए कई शानदार सुविधाएं है। पूरी तरह से वातानुकूलित गाड़ी दो प्रकार की श्रेणीयां प्रदान करती है।

पहला प्रथम श्रेणी वातानुकूलित और दूसरा द्वितीय श्रेणी वातानुकूलित गाड़ी। गाड़ी में सीसीटीवी कैमरों के जरिए सुरक्षा सुविधाओं को बढ़ाया गया है। आईआरसीटीसी के लिए यात्रियों की सुरक्षा सर्वप्रथम है, अतः इस गाड़ी में निजी सुरक्षा गार्ड भी तैनात किए गए हैं।

उल्लेखनीय है कि आईआरसीटीसी देश एवं समाज के प्रति अपने उत्तरदायित्व को समझते हुए घरेलू पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से भारत सरकार की पहल “देखो अपना देश” के अनुरूप, आईआरसीटीसी ने बहुत ही प्रतिस्पर्धी लागत पर इन टूर पैकेजों को शुरू करने की योजना बनाई है।

Jyotirlinga

जो “ज्योतिर्लिंग एवं स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ 26.790 रुपये प्रति व्यक्ति और “पधारो राजस्थान’ टूर के लिए 22,830 रुपये प्रति व्यक्ति होगी। सरकार एवं पीएसयू के कर्मचारी, वित्त मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार पात्रता के आधार पर इस दौरे की एलटीसी सुविधा का भी लाभ उठा सकते हैं।

पैकेज की लागत संबंधित श्रेणियों में गाड़ी यात्रा, सभी ऑनबोर्ड एंड ऑफ बोर्ड भोजन, होटल में ठहरना यात्रा कार्यक्रम में शामिल है, यात्रियों के लिए अंग्रेजी बोलने वाले टूर एस्कॉर्ट्स को भी शामिल किया गया है। उक्त सुविधाओं के साथ, “यात्री सुरक्षा सर्वोपरि” के मददेनजर यात्रा और यात्रियों के लिए यात्रा बीमा भी शामिल हैं।

टूर पैकेज बुक कराने आ रहे लोगों की उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया मिली

प्रवक्ता ने बताया कि आईआरसीटीसी को जनता और बड़ी संख्या में टूर पैकेज बुक कराने आ रहे लोगों की उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया मिल रही है। IRCTC में केरल, गोवा, कश्मीर, अंडमान, गुजरात में कच्छ के रण और उत्तर पूर्व क्षेत्र के लिए विभिन्न शहरों से फरवरी और मार्च महीने में प्रारंभ किए गए एयर टूर पैकेज पूरी तरह से आरक्षित किए जा चुके हैं और अतिरिक्त टूर पैकेज भी प्रारंभ किए जा रहे हैं।

वाराणसी से ज्योतिर्लिंग यात्रा के लिए भारत दर्शन पर्यटन गाड़ी की 10 जनवरी को 600 पर्यटकों के साथ यात्रा प्रारंभ हुई। रक्सौल, बिहार से अन्य गाड़ी 31 जनवरी के लिए 500 से अधिक सीटों के साथ दक्षिण भारत के लिए आरक्षित की गई।

27 जनवरी को जालंधर से ज्योतिलिंग पर्यटन तीर्थयात्री विशेष गाड़ी 550 से अधिक यात्रियों द्वारा आरक्षित की गई। IRCTC द्वारा नियोजित भारत के पूर्व. दक्षिण और पश्चिमी भाग के अन्य पर्यटन पैकेज में भी जनता अपनी अभिरूची प्रदर्शित कर रही है।

यह भी पढ़ें: वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट: खुशहाल देशों की लिस्ट में फिनलैंड शीर्ष पर, भारत 139वें नंबर पर

Related posts

होलिका दहन से जुड़े ‘टोटके’ भी जीवन में ला सकते हैं ‘खुशहाली’

Buland Dustak

विश्व वन्यजीव दिवस: जैव विविधता पर मंडराता खतरा

Buland Dustak

डॉ. कलाम का आत्मनिर्भर भारत

Buland Dustak

बेहतर विकास के लिए शिक्षा में बदलाव है समय की मांग

Buland Dustak

शिक्षक दिवस: शिक्षकों के सामने ‘नया भारत’ बनाने की चुनौती

Buland Dustak

विश्व साइकिल दिवस: कोलकाता में साइकिल चलाकर दिया जागरूकता का संदेश

Buland Dustak