22.4 C
New Delhi
February 24, 2024
हेल्थ

गिलोय : आयुर्वेद से कटेगा कोरोना, गिलोय गोली का सफल परीक्षण

गिलोय के फायदे : चार महिनों से विश्वभर में कोरोना कहर बरपा चुका है। लोगों के रोजी रोजगार छीन गए। कई अकाल ही काल का ग्रास बन गए। दुनिया तो दुनिया हम अपने देश की बात करें तो हमारी भी यही हालत है। देशभर में कोहराम मचा रहे कोरोना से निपटने के लिए एलोपैथी की कई कंपनियां इलाज ढूंढने में लगी है। मगर अब तक चार महिनों में दर्जनों परीक्षणों के बावजूद इसका कारगर हल सामने नहीं आया है। 

हालांकि संकंट की इस घड़ी में जोधपुर आयुर्वेद विश्वविद्यालय ने थोड़ी राहत की खबर दी है। विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने गिलोय की गोली से कोरोना के कारगर उपचार का दावा किया है। एक महिने के सफल परीक्षण के बाद यह बात आयुर्वेद विश्वविद्यालय प्रशासन ने सामने रखी है। 

तने से बनाई गोली

सूत्रों के मुताबिक गिलोय के तने से यह गोली बनाई गई है। एक तरफ अन्तरराष्ट्रीय मानकों की मानें तो अंग्रेजी दवाइयां कोरोना पॉजिटिव को ठीक करने में 10-12 दिन का समय लेते है। मरीज को पॉजिटिव में नेेेगेटिव बनने में इतना वक्त लगता है। मगर गिलोय की गोली मरीज 5-7 दिन में ही पॉजिटिव से नेगेटिव आने लगता है। ऐसा परीक्षण में सामने आया है। साथ ही इम्युनिटी बूस्टर के तौर गिलोय दे सकते हैं। 

गिलोय गोली का सफल परीक्षण
Also Read : क्या डायबिटीज़ के मरीजों को सेब खाना चाहिए?

12 से ज्यादा टेस्ट, 40 मरीजों पर परीक्षण

शहर के डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन राजस्थान आयुर्वेंद विश्वद्यिालय ने राज्य सरकार के बोरानाडा स्थित कोविड सेंटर में 30 मई से लेकर 30 जून तक इसका परीक्षण किया था। करीबन 40 मरीजों पर 12 से ज्यादा टेस्ट किए गए। 18 से 60 साल के 40 मरीजों को चुना गया था। गिलोय की 5सौ मिलीग्राम की टेबलेट मरीजों को सुबह शाम दी जाती थी। कोरोना मरीज 3 से 7 दिन में ही पॉजिटिव से नेगेटिव आ गए। गिलोय का कोई साइड असर नजर नहीं आया। हार्ट पेसेेंट, किडनी रोगियों पर टेस्ट किए गए।

गिलोय का कंपोनेट पर अब शोध संभव

इस बारे में डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन राजस्थान आयर्वेुंद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अभिमंयु कुमार सिंह के अनुसार गिलोय का शोध कोविड 19 टेस्ट सफल रहा है। इस शोध पत्र को किसी अंतरराष्ट्रीय जर्नल में प्रकाशित करवाया जाएगा। अब तक टेस्ट में पता लगा कि एलोपैथी दवाइयों में एक ही तरह का कंपोनेट होता है। मगर गिलोय में एक ऐसा कौनसा कंपोनेट काम करता है जो कोविड 19 को रोकने में सक्षम रहा है।

अब इस पर शोध किया जाना है। कारण कि आयर्वुेदिक में कई तरह की जड़ी बूटियां इस्तेमाल किए जाने से कई तरह के कं पोनेट कार्य करते है। मगर गिलोय में कौनसा कंपोनेट कार्य करता है इस पर रिसर्च किया जाना है। जिसे अन्तराष्ट्रीय स्तर पर लाकर शोध करवाया जाएगा। 

Related posts

हरे व लाल चावल के फायदे : भागेगी मधुमेह-कैंसर जैसी घातक बीमारियां

Buland Dustak

सावधान! वैज्ञानिकों का दावा, हवा से भी फैलता है कोरोनावायरस

Buland Dustak

हानिकारक है सोशल मीडिया का अधिक प्रयोग, व्यक्तित्व को कर रहा खोखला

Buland Dustak

भारत के लिए नासूर बनती जा रही है डायबिटीज की बीमारी

Buland Dustak

National Epilepsy Day: मिर्गी के मरीजों को सावधानियां बरतनी जरूरी

Buland Dustak

पेट के बल लेटकर ऑक्सीजन की कमी को कर सकते हैं दूर

Buland Dustak