30.1 C
New Delhi
June 3, 2023
एजुकेशन/करियर

यूपीएससी सिविल सेवा 2019 परीक्षा के साक्षात्कार शुरू

नई दिल्ली: संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने सिविल सेवा (मुख्य) परीक्षा, 2019 के शेष अभ्यर्थियों के साक्षात्कार सोमवार से शुरू कर दिये। पहले यह 23 मार्च से 3 अप्रैल के बीच होने थे लेकिन कोरोना संक्रमण और देशव्यापी लॉकडाउन के चलते स्थगित कर दिए गए थे।

आयोग ने सोमवार को एक बयान जारी कर कहा कि सिविल सेवा परीक्षा 2019 (सीएसई-2019) के लिए 2,304 उम्मीदवारों के लिए व्यक्तित्व परीक्षण (पीटी) अथवा साक्षात्कार का आयोजन किया जा रहा था, लेकिन केंद्र सरकार ने कोविड-19 के फैलाव को रोकने के लिए लॉकडाउन लगाने का निर्णय लिया। ऐसे में यूपीएससी आयोग द्वारा स्थिति की समीक्षा की गई और सीएसई-2019 के लिए शेष बचे हुए 623 उम्मीदवारों के लिए गठित पीटी बोर्डों को 23 मार्च 2020 के बाद से स्थगित करने का फैसला किया गया।  

यूपीएससी

आयोग ने कहा कि अब धीरे-धीरे लॉकडाउन हटाने की प्रक्रिया शुरू होने के साथ ही, आयोग ने 20 से 30 जुलाई, 2020 तक शेष बचे हुए अभ्यर्थियों के लिए पीटी का आयोजन करने का निर्णय लिया है और सभी अभ्यर्थियों को इस संदर्भ में पहले से ही सही प्रकार से सूचित किया जा चुका है। उम्मीदवारों, विशेषज्ञ सलाहकारों और कर्मचारियों की सुरक्षा और स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं को दूर करने के लिए, आयोग द्वारा उपयुक्त व्यवस्थाएं अपनाई गई है। 

प्रोटोकॉल व दिशा-निर्देशों का होगा पालन

रेल सेवाएं पूरी तरह से चालू नहीं हुई हैं, इसलिए आयोग ने एक बार के समाधान के रूप में पीटी में शामिल होने वाले उम्मीदवारों को सबसे कम ‘आने-जाने के हवाई किराए’ के पुनर्भुगतान का निर्णय लिया है। राज्य सरकारों से अनुरोध किया गया है कि पीटी में शामिल होने के लिए यूपीएससी ई-बुलावा पत्र रखने वाले उम्मीदवारों को इसमें हिस्सा लेने के लिए प्रतिबंधित क्षेत्रों से बाहर आने-जाने की अनुमति प्रदान करें। आयोग द्वारा उम्मीदवारों के ठहरने और परिवहन आवश्यकताओं की पूर्ति में सहायता भी प्रदान की जा रही है। 

आयोग सभी उम्मीदवारों को पहुंचने पर एक ‘सील की हुई किट’ उपलब्ध करवायेगा जिसमें फेस मास्क, फेस शील्ड, सैनिटाइजर की बोतल और हाथ के दस्ताने शामिल होंगे। चूंकि साक्षात्कार बोर्ड में आम तौर पर वरिष्ठ सलाहकार शामिल होते हैं, इसलिए आयोग द्वारा संपर्क-रहित पीटी का आयोजन करने के लिए सभी प्रकार के एहतियाती और सुरक्षात्मक उपाय किए गए हैं, जिससे साक्षात्कार लेने वाले और साक्षात्कार देने वाले का बचाव उचित रूप से किया जा सके।

पीटी के संचालन में शामिल होने वाले आयोग के कर्मचारियों को भी उपयुक्त सुरक्षात्मक उपकरणों से लैस किया जाएगा। सभी कमरों, हॉल, फर्नीचरों और उपकरणों को नियमित रूप से सैनिटाइज करने की व्यवस्था की गई है। सभी जगहों पर उम्मीदवारों के बैठने की व्यवस्था के रूप में, सुरक्षित शारीरिक दूरी को सुनिश्चित किया जाएगा। साक्षात्कार में शामिल होने वाले उम्मीदवारों को अपनाए जाने वाले प्रोटोकॉल व दिशा-निर्देशों के संदर्भ में सूचना प्रदान कर दी गई है।

Read Moreसीबीएसई रिजल्ट घोषित, त्रिवेंद्रम अव्वल तो दिल्ली 14वें स्थान पर

Related posts

उप्र के शिक्षा मित्रों को झटका, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की अपील

Buland Dustak

केंद्र सरकार ने 7 वर्ष से बढ़ाकर आजीवन कि TET Certificate की वैधता

Buland Dustak

सरकार ने शिक्षा प्रौद्योगिकी का नया संस्करण नीट-2.0 किया लॉन्च

Buland Dustak

ओएमआर आंसर शीट में गड़बड़ी पर एनटीए को हाईकोर्ट का नोटिस

Buland Dustak

उत्तराखंड बोर्ड का हाईस्कूल और इंटरमीडिएट का रिजल्ट घोषित

Buland Dustak

झारखंड की सरकारी नौकरी में अब स्थानीय युवाओं को मिलेगी प्राथमिकता

Buland Dustak