43.1 C
New Delhi
May 25, 2024
उत्तराखंड

उत्तराखंड आपदा : सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने याद रखा 2013 का सबक

- उत्तराखंड जिला चमोली के आपदा प्रभावित क्षेत्र में पहुंचने में नहीं की देरी

देहरादून: उत्तराखंड के चमोली जिले मे प्राकृतिक आपदा के ताजे रूप ने 2013 की कड़वी यादों को फिर ताजा कर दिया। 2013 की आपदा से पूरी सरकारी मशीनरी ने कितना सबक लिया है, यह जान-माल के नुकसान के सामने आने के बाद पता चलेगा, लेकिन सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का तुरंत प्रभावित इलाके में पहुंचना बहुत कुुछ बयान करता है।

साफ है सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पूर्व सीएम विजय बहुगुणा की गलती से काफी कुछ सीखा है। 2013 में केदारनाथ आपदा के दौरान बहुगुणा बहुत देर में प्रभावित इलाकों में पहुंचे थे। इस देरी ने बहुगुणा को सीएम की कुर्सी से उतारने में अहम भूमिका निभाई थी।

कोरोना की लड़ाई का नेतृत्व उत्तराखंड में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बखूबी किया और प्रदेश बहुत बडे़ नुकसान से बचा रहा। अब चमोली जिले की प्राकृतिक आपदा ने सरकार के सामने बड़ी चुनौती पेश की है। सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत अपने चार साल के कार्यकाल में प्राकृतिक आपदा के लिहाज से सबसे बड़ी चुनौती से फिलहाल दो-चार हैं। सरकार के आपदा प्रबंधन विभाग का कामकाज नए सिरे से कसौटी पर है।

उत्तराखंड आपदाः सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने याद रखा 2013 का सबक

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सरकारी मशीनरी को एक्टिव करने के लिए सबसे पहले प्रभावित क्षेत्र में पहुंचने का निर्णय किया और सीधे जोशीमठ पहुंच गए। वह हवाई सर्वेक्षण से जान-माल के नुकसान का आकलन कर रहे हैं। सीएम की ओर से किसी भी तरह की मदद के लिए सोशल मीडिया पर जरूरी नंबर भी जारी कर दिए गए हैं। सीएम ने गृह मंत्रालय से संपर्क करने और वहां से पूरी मदद के भरोसे की बात मीडिया से साझी की है।

वर्ष 2013 में सीएम विजय बहुगुणा को भुगतना पड़ा था नुकसान

दरअसल, 2013 उत्तराखंड की केदारनाथ आपदा के बाद प्रशासनिक तौर पर सरकार की सबसे बड़ी विफलता सामने आई थी, जबकि सबसे प्रभावित रुद्रप्रयाग जिले में कई दिनों तक कोई डीएम ही नहीं था। इसके अलावा, जितनी बड़ी त्रासदी थी, उसमें न सरकार और न ही उसका प्रशासनिक अमला मजबूती से लड़ता हुआ दिखाई दिया।

Also Read: बढ़ रहा है अरब सागर का जलस्तर, मुंबई में पानी में समा जाने का खतरा

इस ताजा आपदा में जान-माल के ब्योरे सामने आने के बाद सारी स्थिति साफ हो पाएगी, लेकिन इसने कहीं न कहीं 2013 की यादों को आम आदमी के जेहन में ताजा जरूर कर दिया है। सरकार पूरी ताकत से आपदा प्रबंधन पर फोकस किए हुए है। विधानसभा चुनाव से साल भर पहले इस प्राकृतिक आपदा के बाद प्रबंधन की स्थिति में जरा सी भी ऊंच-नीच का सीधा मतलब इसका सियासी मुद्दा बन जाना होगा।

हालांकि शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक का कहना है कि सरकार ने सूचना मिलते ही त्वरित कार्रवाई की है। सीएम खुद प्रभावित इलाके में पहुंचे हैं और संबंधित प्रशासन और अन्य एजेंसियों को उचित कार्रवाई के निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

Related posts

उत्तराखंड: उत्तरकाशी में बादल फटने से लोगों की मौत, वाहन खाई में गिरा

Buland Dustak

योगनगरी ऋषिकेश रेलवे स्टेशन से ट्रेनों का संचालन शुरू

Buland Dustak

नैनीताल का रहस्यमयी ‘परी ताल’, कहते हैं- यहां परियां स्नान करने आती हैं

Buland Dustak

उत्तराखंड आपदा 2021: 52 लोगों की जान गयी, 5 लापता

Buland Dustak

उत्तराखंड कैबिनेट: कर्मचारियों को महंगाई भत्ता के साथ लिए गए कई निर्णय

Buland Dustak

उत्तराखंड में पहाड़ियों से घिरा चौकोरी सैलानियों को करता है आकर्षित

Buland Dustak