मध्य प्रदेश

महाकाल मंदिर के गर्भगृह में श्रद्धालुओं का प्रवेश शुरू, बसंत पंचमी पर उमड़ा सैलाब

उज्जैन, 05 फरवरी (हि.स.)। उज्जैन के विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग भगवान महाकालेश्वर के मंदिर में शनिवार को बसंत पंचमी के अवसर पर आम श्रद्धालुओं को गर्भगृह में प्रवेश प्रारंभ कर दिया गया है।

बसंत पंचमी का खास अवसर होने के कारण शनिवार को यहां जन सैलाब उमड़ पड़ा और गर्भगृह से भगवान महाकाल के दर्शन कर श्रद्धालु निहाल हो गए। शनिवार दोपहर जैसे ही गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति श्रद्धालुओं को मिली, पूरा परिसर जय महाकाल के घोष से गूंज उठा।

बसंत पंचमी

महाकालेश्वर मंदिर समिति के प्रशासक गणेश धाकड़ ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा कोरोना के मामलों में कमी आने के बाद विवाह एवं मांगलिक कार्यक्रमों पर लगे कोरोना प्रतिबंध हटा दिए हैं। इसके चलते महाकालेश्वर मंदिर का गर्भगृह आम श्रद्धालुओं के लिए खोलने का निर्णय मंदिर प्रबंध समिति ने लिया है।

Read More:- बसन्त पंचमी हिन्दू धर्म का विशेष महत्व, स्नान करने को उमड़ी भीड़

शनिवार को दोपहर बाद गर्भगृह में श्रद्धालुओं का प्रवेश शुरू हुआ। बड़ी संख्या में श्रद्धालु मंदिर पहुंचे और बसंत पंचमी के मौके पर गर्भगृह में जाकर श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। इस दौरान 100 रुपये शुल्क वाले प्रोटोकाल दर्शन और 250 रुपये के सशुल्क दर्शन पर रोक लगाई गई थी।

प्रशासक धाकड़ ने बताया कि आगे भी श्रद्धालुओं को गर्भगृह में प्रवेश कर दर्शन की अनुमति दी जाएगी। अधिक भीड़ होने पर दर्शनार्थी 1500 रुपये शुल्क के साथ गर्भगृह में प्रवेश कर सकेंगे।

उल्लेखनीय है कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण और नववर्ष पर श्रद्धालुओं की भीड़ को देख महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति ने 30 दिसंबर से 03 जनवरी तक गर्भगृह में आम श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लगा दी थी।

बाद में कोरोना पॉजिटिव केस बढ़ने पर शासन द्वारा जारी कोरोना गाइड लाइन का पालन कराने के लिए प्रवेश पर प्रतिबंध लगाए रखा। मांगलिक कार्यक्रमों पर लागू कोरोना प्रतिबंध हटाने का फैसला आने पर 37 दिन बाद महाकाल मंदिर का गर्भगृह श्रद्धालुओं के लिए पुनः खोला गया।

Related posts

मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज की बच्चों के प्रति जागृत संवेदना

Buland Dustak

कोरोना से माता-पिता को खोने वाले बच्चों की सहायता में इंदौर प्रदेश में अव्वल

Buland Dustak

’ट्रकों पर कोरोना शायरी’ से वैक्सीनेशन के लिए फैलाई जा रही जागरूकता

Buland Dustak

सीधी बस हादसा: मृतकों की संख्या 51 हुई, सीएम शिवराज लेंगे घटनास्थल का जायजा

Buland Dustak

मध्य प्रदेश बना देश में सर्वाधिक वैक्सीनेशन करने वाला दूसरा राज्य

Buland Dustak

किसानों को अब मिलेगा ‘मूंग की दाल’ पर समर्थन मूल्‍य

Buland Dustak