36.8 C
New Delhi
May 26, 2024
देश

केदारनाथ के कपाट खोलने की तिथि घोषित, 17 मई को प्रातः 5 बजे खुलेंगे

- 14 मई को प्रस्थान करेगी डोली शीतकालीन गद्दीस्थल से केदारनाथ के लिये

रुद्रप्रयाग: द्वादश ज्योतिर्लिंगों में अग्रणी भगवान केदारनाथ के कपाट खोलने की तिथि महाशिवरात्रि पर्व पर शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मन्दिर में पंचाग गणना के अनुसार विद्वान आचार्यों, देव स्थानम् बोर्ड के अधिकारियों व हक-हकूकधारियाें की मौजूदगी में घोषित कर दी गयी है।

केदारनाथ के कपाट

इस वर्ष भगवान केदारनाथ के कपाट वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ 17 मई को ब्रह्म बेला पर प्रातः 5 बजे मेष लगन में खोल दिये जाएंगे। जबकि भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली 14 मई को शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मन्दिर ऊखीमठ से हिमालय के लिए रवाना होगी।

13 मई को भैरवनाथ की पूजा विधि-विधान से होगी सम्पन्न

महाशिवरात्रि पर्व पर भगवान केदारनाथ के शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मन्दिर में रावल भीमाशंकर लिंग, देव स्थानम् बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारी बीडी सिंह, एनपी जमलोकी, केदारनाथ तीर्थ पुरोहित श्रीनिवास पोस्ती, केदारसभा अध्यक्ष विनोद शुक्ला, पूर्व कार्यधिकारी अनिल शर्मा, पूर्व प्रमुख लक्ष्मी प्रसाद भटट् सहित विद्वान आचार्यों, वेदपाठियों सहित हक-हकूकधारियो की मौजूदगी में घोषित तिथि के अनुसार 13 मई को भगवान केदारनाथ के शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मन्दिर में केदारपुरी के क्षेत्र रक्षक भैरवनाथ की पूजा विधि-विधान व पौराणिक परम्पराओं के अनुसार सम्पन्न की जायेगी तथा 14 मई को भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली श्रद्धालु की जयकारों, आर्मी की बैण्ड धुनों के साथ ऊखीमठ से हिमालय के लिए रवाना होकर जैबरी, विद्यापीठ, गुप्तकाशी, नाला, नारायणकोटी, मैखण्डा यात्रा पडावों पर श्रद्धालुओं को आशीष देते हुए प्रथम रात्रि प्रवास के लिए फाटा पहुंचेगी।

केदारनाथ कपाट

15 मई को भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली फाटा से प्रस्थान पर शेरसी, बडासू, रामपुर, सीतापुर, सोनप्रयाग यात्रा पडावों से होते हुये रात्रि प्रवास के लिए गौरी माता मन्दिर गौरीकुण्ड पहुंचेगी तथा 16 मई को भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली गौरीकुण्ड से रवाना होकर विभिन्न यात्रा पडावों पर श्रद्धालुओं को आशीष देते हुए केदारनाथ धाम पहुंचकर भण्डार गृह मे विराजमान होगी तथा 17 मई को भगवान केदारनाथ के कपाट वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ बह्म बेला पर 5 बजे मेघ लगन में ग्रीष्मकाल के लिए खोल दिये जाएंगे।

यह भी पढ़ें: हरिद्वार कुंभ में पहला शाही स्नान जारी, 10 बजे तक 24 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने किया स्नान

Related posts

काव्य के विविध रंगों से सजा होगा जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 2022

Buland Dustak

Bharat Bandh: पंजाब में व्यापक असर, प्रदर्शनकारी किसानों ने रास्तों को किया जाम

Buland Dustak

वायुसेना दिवस परेड में राफेल शानदार प्रदर्शन के साथ दिखाएगा दम

Buland Dustak

देश के सात राज्यों में बर्ड फ्लू का कहर, दिल्ली में भी बढ़ा खतरा

Buland Dustak

दिल्ली में हिंसा के मद्देनजर पंजाब में हाई अलर्ट

Buland Dustak

भारत ने एक करोड़ से अधिक कोविड वैक्सीनेशन करके रचा इतिहास: डॉ. हर्ष वर्धन

Buland Dustak